ऐसी है जानकारी
गिरफ्तार किए गए लोगों में कालर्टन स्पोटर्स नेटवर्क (सीएसएन) के पूर्व मुख्य कार्यकारी निशांथा राणातुंगा भी शामिल हैं। वे श्रीलंकाई क्रिकेट बोर्ड के सचिव भी रह चुके हैं। योशिता और उनके सहयोगियों पर सीएसएन के पैसे का दुरुपयोग करने का आरोप लगा है। गिरफ्तारी के बाद आरोपियों को मजिस्‍ट्रेट की अदालत में पेश किया गया।

पुलिस ने बताया
इस बारे में पुलिस ने एक बयान में बताया है कि मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत इनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। वहीं, नौसेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि गिरफ्तारी से पहले नौसेना मुख्यालय में वित्तीय अपराध जांच विभाग के अधिकारियों ने योशिता से लंबी पूछताछ की।

पेश किया गया मजिस्‍ट्रेट की अदालत में
गिरफ्तारी के बाद इन लोगों को कादुवेला मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने पांचों आरोपियों को 13 फरवरी तक पुलिस हिरासत में भेज दिया। पेशी के दौरान राजपक्षे भी अदालत में मौजूद थे। योशिता राजपक्षे परिवार के पहले सदस्य हैं जो मैत्रिपाल सिरिसेना के राष्ट्रपति बनने के बाद गिरफ्तार किए गए हैं।

inextlive from World News Desk

International News inextlive from World News Desk