बेहद रोचक है फुटबॉल वर्ल्ड कप
कानपुर। रूस में चल रहा फीफा वर्ल्ड कप 2018 का जादू पूरी दुनिया में चल रहा है। टूर्नामेंट शुरु हुए तीन दिन हो गए, इस दौरान कई रिकॉर्ड बने और टूटे। वैसे तो फुटबॉल वर्ल्ड कप इतिहास काफी पुराना है मगर 2018 में इसका 21वां एडीशन खेला जा रहा। पिछले 20 वर्ल्ड कप मैचों से जुड़ी कई यादे हैं, ऐसा ही एक यादगार लम्हा आया था 1990 वर्ल्ड कप में जब एक क्वॉलीफॉयर मैच में क्रिकेट अंपायर को रेफरी बना दिया गया था। यह शख्स कोई और नहीं मशहूर क्रिकेट अंपायर स्टीव बकनर हैं, वह इकलौते ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने क्रिकेट वर्ल्ड कप में अंपायरिंग और फुटबॉल वर्ल्ड कप में रेफरी का जिम्मा संभाला।

फैसले को लेकर रहे थे विवादित
अगर आप भारतीय क्रिकेट के फैन हैं तो स्टीव बकनर के नाम से भली-भांति परिचित होंगे। ये वही अंपायर है जिन पर भारतीय क्रिकेटर्स को जानबूझकर आउट देने के आरोप लगे थे, खासतौर से सचिन तेंदुलकर के खिलाफ दिए गए उनके आधे से ज्यादा फैसले विवादित रहे। इसके बावजूद बकनर अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में जाने-पहचाने अंपायर माने जाते हैं। बकनर का जन्म 31 मर्इ 1946 को जमैका में हुआ था, बकनर ने कभी क्रिकेट नहीं खेला, हालांकि स्कूली दिनों में वह फुटबॉल खेला करते थे। यही वजह है कि करियर के शुरुआती दिनों में उन्हें फुटबॉल मैच में रेफरी बनने का मौका मिला था, बाद में उन्होंने क्रिकेट की तरफ रुख कर लिया।

फीफा वर्ल्ड कप 1990 क्वॉलीफॉयर मैच में रेफरी
साल 1990 में फुटबॉल वर्ल्ड कप आयोजित होना था। इस टूर्नामेंट में कौन-कौन टीम खेलेंगी इसका चयन क्वॉलीफॉयर मैच से किया गया था। ये क्वॉलीफॉयर मैच दो साल पहले शुरु हो गए थे। र्इएसपीएन क्रिकइन्फो के मुताबिक, 1988 में सेल्वेडर और नीदरलैंड के विरुद्ध क्वॉलीफॉयर मैच खेला गया जिसमें रेफरी स्टीव बकनर बने। हालांकि इसके ठीक चार साल बाद 1992 क्रिकेट वर्ल्ड कप में जब बकनर को अंपायरिंग का जिम्मा सौंपा गया तो उनके नाम अनोखा रिकॉर्ड दर्ज हो गया। वह दुनिया के पहले ऐसे शख्स बने जो क्रिकेट वर्ल्ड कप में अंपायर और फुटबॉल वर्ल्ड कप में रेफरी रहे। बकनर को क्रिकेट वर्ल्ड कप में अंपायरिंग करने का मौका बहुत जल्दी मिल गया था, क्योंकि इससे पहले उनके पास सिर्फ चार टेस्ट और एक वनडे में अंपायरिंग का अनुभव था।

अंपायरिंग के रिकॉर्ड कायम किए हैं बकनर ने
स्टीव बकनर ने करीब 20 साल इंटरनेशनल क्रिकेट में अंपायरिंग की है। उनके नाम सबसे पहले 100 टेस्ट मैचों में अंपायरिंग करने का रिकॉर्ड भी दर्ज है। उन्होंने यह कारनामा साल 2005 में किया था। यही नहीं बकनर 1992 से लेकर 2007 तक लगातार पांच वर्ल्ड कप फाइनल मैच में अंपायरिंग करने वाले इकलौते अंपायर हैं। अपने पूरे करियर में इस कैरेबियार्इ अंपायर ने 181 वनडे और 128 टेस्ट मैचों में अंपायरिंग की।

1950 में भारत को मिला था फुटबॉल वर्ल्ड कप खेलने का मौका, जूते नहीं थे इसलिए हो गए बाहर

सालभर में कोहली जितना कमाते हैं, उससे डेढ़ गुना कीमत मिलेगी फीफा वर्ल्ड कप चैंपियन को

inextlive from News Desk