-सीएमएस ने जारी किया विभागों को पत्र

-अब्सेंट रहने वालों का काटा जाएगा वेतन

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW: किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में अपनी मांगों को लेकर कार्य बहिष्कार करने वाले रेजीडेंट डॉक्टर्स के खिलाफ एफआईआर हो सकती है. केजीएमयू के सीएमएस डॉ. एसएन शंखवार ने इसके संबंध में पत्र मंगलवार को ही जारी कर दिया था. दो जून को प्रमुख सचिव डॉ. रजनीश दुबे की ओर से चिकित्सा शिक्षा विभाग में हड़ताल निषिद्ध करने के आदेश के तहत सीएमएस ने यह निर्देश जारी किए हैं. यही नहीं बड़ी संख्या में हड़ताल पर गए रेजीडेंट डॉक्टर्स का एक दिन का वेतन भी काटने की तैयारी है.

हड़ताल से टले थे ऑपरेशन

मंगलवार को केजीएमयू में रेजीडेंट डॉक्टर्स ने अपनी मांगों को लेकर कार्य बहिष्कार किया था जबकि पहले से ही केजीएमयू में एस्मा लगा हुआ है. इसके तहत हड़ताल निषिद्ध है. वीसी ने 13 जून को ही आदेश जारी कर कहा था कि केजीएमयू में कार्यरत कोई भी कर्मचारी, रेजीडेंट डॉक्टर, संकाय सदस्य या छात्र हड़ताल करता है तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराकर कार्रवाई की जाएगी. वहीं रेजीडेंट डॉक्टर्स का कहना है कि शासन और प्रशासन द्वारा पिछले कई महीनों से उनकी बातों को ना सुनने और मांगों को पूरा ना करने की वजह से वह कार्य बहिष्कार को मजबूर हुए.

अगले हफ्ते ही हो सकेंगे 100 से ज्यादा ऑपरेशन

रेजीडेंट्स द्वारा कार्य बहिष्कार के कारण 100 से ज्यादा मरीजों के ऑपरेशन टालने पड़े थे. जनरल सर्जरी, यूरो सर्जरी, सीवीटीएस, प्लास्टिक, न्यूरो, क्वीनमेरी सहित अन्य विभागों के पहले से तय ऑपरेशन नहीं हो सके थे. डॉक्टर्स के अनुसार अब इनके ऑपरेशन अगले हफ्ते ही हो सकेंगे क्योंकि मंगलवार के दूसरे दिन लगभग सभी विभागों में डॉक्टर्स की टीमें बदल जाती हैं. ऐसे में जिन मरीजों के ऑपरेशन टले हैं उनके ऑपरेशन अब अगले हफ्ते ही संभव हैं.

काटा जाएगा वेतन

सीएमएस ने मंगलवार को ही सभी विभागों को पत्र लिखकर अब्सेंट रहने वाले रेजीडेंट डॉक्टर्स की सूचना देने को कहा था. सूत्रों के मुताबिक 50 से ज्यादा रेजीडेंट डॉक्टर्स ड्यूटी से कई घंटों के लिए गायब थे. विभिन्न विभागों ने इसकी सूचना भी वीसी कार्यालय को भेज दी है. अधिकारियों के मुताबिक इन सभी का एक दिन का वेतन काटा जा सकता है.

कोट--

कार्य बहिष्कार करने वालों की जानकारी विभागों से सीधे वीसी आफिस गई है. आगे का निर्णय कुलपति के अनुमोदन के बाद वित्त अधिकारी लेंगे.

डॉ. एसएन शंखवार, सीएमएस, केजीएमयू