महापौर ने कहा, जलकल को चला रहें हैं ठेकेदार

नगरायुक्त ने जीएम जलकल से तलब की फाइलें

Meerut. नगर निगम में मंगलवार को जलकल विभाग की महापौर द्वारा फाइल ले जाने का मामला छाया रहा. महापौर ने जहां फाइलों की जांच करने के बाद बड़े गड़बड़झाला पकड़ में आने की बात कही है. नगर आयुक्त से बात करने और कमिश्नर डॉ. प्रभात कुमार से भी लिखित शिकायत करने की बात कही. आरोप लगाया है कि जलकल विभाग को ठेकेदार चला रहें हैं जलकल विभाग के अधिकारी नहीं. उधर नगरायुक्त ने इस मामले में जलकल विभाग के जीएम से 35 फाइलें तलब कर ली हैं.

टीम पहुंची कैंप कार्यालय

महापौर सुनीता वर्मा ने सोमवार को जो 35 फाइल ली थी. इन फाइलों में कुछ फाइलें ऐसी भी थी जिन्हें लेने के लिए महापौर कैंप कार्यालय पर निर्माण विभाग की टीम भी पहुंची. लेकिन महापौर ने सभी फाइलों की जांच कराने और हकीकत सामने आने के बाद फाइलें दिए जाने की बात कही.

कंप्यूटर से निकल जाएगी फाइल

वहीं इस मामले में जीएम जलकल संजय सिन्हा का कहना है कि जो फाइलें महापौर सुनीता वर्मा ले गईं हैं उन फाइलों की दूसरी कॉपी कम्प्यूटर से डाउनलोड की जा सकती है. जल्द ही उन फाइलों को डाउनलोड कर नगरायुक्त को दे दी जाएंगी.

महापौर को किसी भी फाइल को ले जाने का अधिकार नहीं है. न ही टेंडर होने से पहले कोई इस फाइल को अपने घर ले जा सकता है. बहरहाल जीएम जलकल से जल्द से जल्द फाइल देने के निर्देश दिए हैं. जिससे उन पर काम शुरू हो सके.

मनोज कुमार चौहान, नगर आयुक्त

फाइलों में बहुत गड़बड़ झाला है. उसकी जांच कराई जाएगी. उसके बाद ही यह फाइल निगम को सौंपी जाएगी. जलकल विभाग को अधिकारी नहीं बल्कि ठेकेदार चला रहे हैं. नगर आयुक्त से इस संबंध में बात की जाएगी. कमिश्नर को भी लिखित में इसकी शिकायत की जाएगी.

सुनीता वर्मा, महापौर