- स्टूडेंट्स ने दिखाई मेधा, सैकड़ों की संख्या में जुटे प्रतिभागी

- आईआईटी एग्जाम में सेंटर पर उत्साह से लबरेज दिखे स्टूडेंट्स

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW :

खुद को परखने का प्लेटफार्म मिला तो बच्चों ने कोई कसर नहीं छोड़ी. क्या वो भविष्य में किसी बड़े कंप्टीशन को बीट कर सकते हैं. उनका कांफिडेंस लेवल कैसा है. इस तरह के कई सवालों से पार पाने के लिए बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स संडे को गोमती नगर स्थित जागरण पब्लिक स्कूल में आयोजित इंडियन इंटेलीजेंस टेस्ट का हिस्सा बने. जागरण समूह की ओर से इंडियन इंटेलीजेंस टेस्ट का यह छठा सेशन था. पीएसआईटी कानपुर इस एग्जाम का नॉलेज पार्टनर है. जिसमें शामिल होने के लिए सैकड़ों स्टूडेंट्स ने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराया था.

करियर संवारने की फिक्र

जागरण समूह की ओर से आयोजित टेस्ट में शामिल बच्चों में करियर संवारने की फिक्र साफ दिखाई दी. उनका उत्साह सातवें आसमान पर था. इस मेगा इवेंट को लेकर पैरेंट्स भी काफी उत्साहित थे. वे भीषण गर्मी में स्कूल के बाहर खड़े इस बात का इंतजार कर रहे थे कि उनके बच्चे पेपर देकर आएं और बताएं, उनका पेपर कैसा हुआ.

बच्चों ने खूब लगाया दिमाग

आईआईटी में क्लास 5 से 12 तक के स्टूडेंट्स शामिल हुए. पेपर भी इसी ढंग से तैयार कराया गया था कि स्टूडेंट्स के आई क्यू लेवल के साथ उसके इंट्रेस्ट के पर्टिकुलर सब्जेक्ट को भी परखा जा सके. इसमें माइनस मार्किंग भी रखी गई थी. इसके चलते स्टूडेंट्स ने काफी दिमाग लगाकर प्रश्नों का जवाब दिया.

आकलन करने में आसानी

बातचीत के दौरान बच्चों ने बताया कि उन्होंने आज सेपहले कभी भी ओएमआर शीट यूज नहीं की थी. इसके साथ ही आईक्यू लेवल के प्रश्नों की भी बच्चों ने खूब तारीफ की. उनका कहना था कि इस टेस्ट में शामिल होने के बाद खुद का आकलन करने में आसानी होगी.

बच्चों का कोट

जागरण समूह ने हमें ऐसा प्लेटफॉर्म दिया है जिससे हम अपनी योग्यता को परख सकते हैं. मैंने भी यही सोच कर इस एग्जाम में हिस्सा लिया. उम्मीद है कि करियर सलेक्शन को लेकर मेरी जिज्ञासा खत्म हो जाएगी.

अनामिका

आई वांट टू चेक माई एबिलीट, इसी लिए मैंने इसमें हिस्सा लिया. एग्जाम पेपर भी मेरे इस कांसेप्ट को सपोर्ट कर रहा है. एग्जाम देने में बहुत मजा आया अब तो बस रिजल्ट का इंतजार है. यह एक अच्छा एक्सपीरियंस रहा.

अनुष्का चौबे

आईआईटी का पेपर अच्छा आया है. सभी क्वेश्चन ने उलझाया. जिस दिन से फार्म भरा था तभी से एग्जाम की तैयारी कर रही थी. पैरेंट्स ने भी मेरी काफी हेल्प की. मुझे पूरी उम्मीद है कि पेपर में काफी अच्छे अंक आएंगे.

अरिका

नॉलेज बढ़ाने के लिए आईआईटी में पार्टिसिपेट कर रही हूं. मेरा अपने पसंदीदा सब्जेक्ट में इंट्रेस्ट है और इसे परखने के लिए एग्जाम दिया है. क्वेश्चन हमारी नॉलेज के हिसाब से थोड़े हाई लेवल के आए थे.

ध्रुवी

एग्जाम में कुछ क्वेश्चन तो काफी सरल थे. लेकिन कई ऐसे क्वेश्चन भी थे, जिसने टेंशन दिया. इनको सॉल्व करने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ी. लेकिन फाइनली सब ठीक रहा. यह इवेंट काफी अच्छा रहा.

मिसबा

पहली बार इस तरह के एग्जाम में शामिल हुआ. पहले तो डर लग रहा था. क्वेश्चन भी समझ में नहीं आ रहे थे. लेकिन थोड़ी देर बाद सब ठीक हो गया. अपनी तरफ से तो सही क्वेश्चन सॉल्व किए हैं. अब रिजल्ट का वेट करना है.

प्रशांत मिश्रा

ये सोच कर एग्जाम में पार्टिसिपेट किया कि सबसे अच्छे मॉ‌र्क्स लाने हैं. आईआईटी को लेकर काफी तैयारी भी की थी, जिसके अच्छे परिणाम आए है, कुछ क्वेश्वन काफी कठिन है. ओवरऑल पेपर अच्छा रहा.

श्रेया सिंह

कई प्रश्न ऐसे थे, जिनके आंसर को लेकर कंफ्यूजन था. माइनस मार्किंग थी, इसलिए सावधानी बरती. फिर भी एग्जाम में काफी मजा आया. ओएमआर शीट भरने का भी एक्सपीरियंस इस एग्जाम में मिल गया.

निकिता

स्टूडेंट्स करियर को लेकर काफी चूजी हो चुके हैं. उन्हें अपने इंट्रेस्ट के हिसाब से ही सब्जेक्ट का सलेक्शन करना चाहिए. आईआईटी इसमें काफी हेल्प फुल साबित होगा. यहां का एक्सपीरियंस काफी अच्छा रहा है.

प्रज्ञा

एग्जाम में शामिल होने से पहले थोड़ा डर लग रहा था. जब पेपर मिला तो डर खत्म हो गया और कांफिडेंस लेवल डेवलप हुआ. अपनी तरफ से मैंने पेपर अच्छा किया है. अब देखना है कि रिजल्ट कैसा आता है.

उमेलैला

बोले, टीचर्स

बच्चे के लेवल के बारे में जानने का आईआईटी बेस्ट ऑप्शन है. इस एग्जाम से पता लगता है कि बच्चा अभी किस सब्जेक्ट में कहां वीक है और उसे क्या इम्पू्रव करना है.

- मिथिलेश मिश्रा, टीचर, जागरण पब्लिक स्कूल

बच्चों में इस एग्जाम का काफी क्रेज था. एग्जाम में हर साल हमारे स्कूल के स्टूडेंट पार्टिसिपेट करते हैं. इससे पता लगता है कि उनका लेवल अभी कितना है और कहां मेहनत की जरूरत है.

- नीरज मिश्रा, जागरण पब्लिक स्कूल

इस तरह का एग्जाम हमेशा कराया जाना चाहिए. एग्जाम का पेपर कंप्टीशन की तैयारी करने वालों के लिए बेहतर है. वैसे भी कंप्टीशन में ओएमआर शीट से एग्जाम होता है.

- एसके सिंह, जागरण पब्लिक स्कूल