पीसीबी हॉस्टल में 31 अक्टूबर 2018 की रात छात्र नेता अच्युतानंद को गोली मारने वालों को भागने में की थी मदद

PRAYAGRAJ: 25 हजार रुपए के इनामी राहुल वर्मा उर्फ कनक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। बलिया निवासी राहुल ने छात्रनेता सुमित शुक्ला उर्फ अच्युतानंद की गोली मार कर हत्या करने वाले आशुतोष त्रिपाठी की घटना के बाद भागने में मदद की थी। उसके पास से पुलिस को तमंचा व कारतूस मिला है। घटना के बाद से ही वह गायब था। तत्कालीन एसएसपी ने उस पर इनाम घोषित किया था।

बर्थडे पार्टी में मारी गयी थी गोली

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के पीसीबी हॉस्टल में 31 अक्टूबर 2018 की रात बर्ड-डे पार्टी आयोजित की गयी थी। पार्टी में पहुंचे छात्र नेता अच्युतानंद शुक्ला की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। सीएमपी छात्रसंघ के अध्यक्ष आशुतोष त्रिपाठी, हरिकेश मिश्र और सौरभ उर्फ प्रिंस पर हत्या का आरोप लगा था। सीसीटीवी फुटेज में पूरी घटना कैद हो गयी थी। तत्कालीन एसएसपी ने तीनो आरोपितों पर 50-50 हजार रुपए का इनाम घोषित किया था। पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार किया तो पूछताछ में राहुल वर्मा उर्फ कनक पुत्र नंदलाल वर्मा निवासी रेवती बलिया का नाम नाम सामने आया। पता चला कि उसी ने हत्या के बाद इन सभी के भागने का बंदोबस्त किया था। नाम सामने आते ही राहुल गायब हो गया था। काफी कोशिश के बाद भी पकड़ में न आने पर तत्कालीन एसएसपी नितिन तिवारी ने राहुल पर 25 हजार रुपए का इनाम घोषित किया था। शनिवार दोपहर इंस्पेक्टर कर्नलगंज अनूप सिंह को सूचना मिली कि राहुल सलोरी क्षेत्र में आया है। सूचना पर कर्नलगंज पुलिस और क्राइम ब्रांच ने घेरकर राहुल को दबोच लिया।

राहुल को गिरफ्तार करने वाली टीम को इनाम दिया जाएगा। राहुल ने ही अच्युतानंद शुक्ला हत्याकांड के मुख्य आरोपित को बाइक से बस अड्डे तक ड्राप किया था।

अतुल शर्मा, एसएसपी प्रयागराज