-छात्रवृत्ति की मांग को लेकर छात्रों ने जिला समाज कल्याण अधिकारी कार्यालय में किया हंगामा

-नहीं मिली रही छात्रवृत्ति, पुलिस ने छात्रों को समझा-बुझाकर किया शांत

मेरठ: छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति का लाभ न मिलने पर बुधवार को भीषण गर्मी में छात्रों का पारा चढ़ गया और उन्होंने समाज कल्याण अधिकारी कार्यालय में जमकर हंगामा किया. अधिकारी उमेश द्विवेदी का घेराव किया तो वहीं आरोप-प्रत्यारोप भी लगाए. हंगामे की जानकारी पर पहुंची पुलिस ने छात्रों को समझा बुझाकर शांत किया.

नहीं मिल रही छात्रवृत्ति

सत्र 2016-17 में मेरठ के हजारों छात्रों का भविष्य छात्रवृत्ति न मिलने से दांव पर लगा है. बुधवार को सीसीएस यूनीवर्सिटी एवं अन्य कॉलेजों के छात्रों ने विकास भवन पहुंचकर जिला समाज कल्याण अधिकारी कार्यालय में जमकर हंगामा काटा. समाज कल्याण अधिकारी उमेश द्विवेदी का घेराव करते हुए विरोध में छात्रों ने जमकर नारेबाजी की. आरोप है कि विभाग जानबूझकर उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है तो वहीं शुल्क प्रतिपूर्ति न होने और छात्रवृत्ति न मिलने से उनका भविष्य अधर में है.

हजारों छात्रों का भविष्य दांव पर

गौरतलब है कि करीब 26 हजार छात्रों का जंक डाटा अभी तक क्लियर नहीं हुआ है. ये वे छात्र हैं जिनके फार्म तो मुख्यालय तक गए किंतु रिकार्ड चेकिंग के दौरान किसी कमी के चलते उन्हें सस्पेक्टेड में डाल दिया गया. इसमें 13 हजार अनुसूचित जाति के छात्र हैं, 6 हजार छात्र ओबीसी कोटे के हैं जबकि 3 हजार जनरल और 3 हजार अल्पसंख्यक कोटे के छात्र शामिल हैं. शासन की ओर से वेबसाइट को बंद करने के बाद इन छात्रों के डाटा को संशोधित नहीं किया जा पा रहा है. हालांकि समाज कल्याण अधिकारी का कहना है कि एक-दो दिन में साइट खुलने के बाद जंक डाटा को संशोधित कर दिया जाएगा.

---

वर्जन

जंक डाटा के अलावा करीब 5 हजार छात्रों को योजना का लाभ नहीं मिल सका है. साइट खुलने के बाद डाटा करेक्ट कर दिया जाएगा. फंड आने के बाद बचे छात्रों के खातों में योजना का धन पहुंच जाएगा.

उमेश द्विवेदी, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी