एक हजार साल पहले
दरअसल, लंदन में हुई रिसर्च के अनुसार, कन्नौज से पांच कुलीन कायस्थ करीब एक हजार साल पहले बंगाल में जाकर बस गए थे। इन लोगों को बाद में घोष, मित्रा, दत्ता, गुहा और बोस के तौर पर पहचाना जाने लगा। इन कुलीन कयास्थ के साथ-साथ पांच ब्राह्मïण भी बंगाल में आकर बसे। इन्हें मुखर्जी और बनर्जी जातियों के नाम से जाना जाता है। बंगाल के बोस और उत्तर प्रदेश के श्रीवास्तवों को एक ही परिवार का माना जाता है। इसी कारण अमिताभ बच्चन, पूर्व प्रधानमंत्री और सुभाष चंद्र बोस के बीच दूर की रिश्तेदारी मानी जा सकती है।

एक ही पेड़ की दो शाखाएं
रिसर्च में यह भी कहा गया है कि बॉलीवुड स्टार अमिताभ बच्चन ने जया भादुड़ी से शादी की है। जया बंगाली हैं जिसकेबाद अमिताभ बंगाल के जमाई भी हैं। ऐसे में अमिताभ का बंगाल से रिश्ता जुड़ गया है। रिसर्च टीम के मुताबिक बहुत संभावना है कि बंगाल के बोस और उत्तर प्रदेश के श्रीवास्तव एक ही पेड़ की दो शाखाएं हों।

यूपी से नेताजी को मिले थे खूब वोट
- साल 1939 में सुभाष चंद्र बोस को इंडियन नेशनल कांग्रेस का दोबारा पार्टी अध्यक्ष चुना गया था।
- इस रिसर्च में दावा किया गया है कि नेताजी को उत्तर प्रदेश से काफी वोट मिले थे।
- बोस को वोट देने वाले लोगों को उस समय यह नहीं पता था कि वह अपने ही किसी को वोट दे रहे हैं।
- यह रिसर्च वर्तमान और बंगाली कुलीन कायस्थ परिवारों से संबंधित व्यक्तियों के एक छोटे समूह के ऐतिहासिक और वंशावली कार्यों के आनुवंशिक विश्लेषण के आधार पर किया गया है।

Bollywood News inextlive from Bollywood News Desk