-तीन माह की बच्ची की मौत, मछुआरों ने मां को बचाया

-बहर जागीर के समीप हुई घटना, पीलीभीत के बरखेड़ा की रहने वाली है महिला

>BAREILLY :

बेदियां पैदा होने से ससुराल वालों के ताने सुनकर परेशान महिला ने संडे को आत्मघाती कदम उठा लिया. महिला ने तीन माह की बच्ची के साथ देवहा नदी में छलांग लगा दी. मौके मछुआरों ने महिला को और उसकी बच्ची को नदी में छलांग लगाते देखा तो वह दौड़ पड़े. मछुआरों ने महिला को नदी से किसी तरह निकाल लिया लेकिन बच्ची को जब तक निकाला उसकी मौत हो चुकी थी. घटना की सूचना जब ससुराल पहुंची तो वह मौके पर पहुंचे.

सात वर्ष पहले हुइर् थी शादी

पीलीभीत क्षेत्र के जहानाबाद निवासी निर्मला देवी की शादी सात वर्ष पूर्व कस्बा बरखेड़ा के गंगाशरण के साथ हुई थी. पांच वर्ष पहले निर्मला को एक बेटी हुई थी. तीन माह पहले उन्होंने एक और बेटी को जन्म दिया. आरोप है कि बेटियां जानने पर ससुराल वाले निर्मला को ताना मारने लगे, और उत्पीड़न करने लगे. ससुराल वालों के तानों से परेशान होकर निर्मला तीन माह की बेटी को लेकर घर से चली आई. वह क्योलडि़या क्षेत्र में बहर जागीर के पास देवहा नदी पर पहुंची और शाम लगभग साढ़े चार बजे निर्मला देवी ने बेटी को सीने लगाया और बेटी को नदी में फेंक दिया. पीछे से खुद भी उसी में छलांग लगा दी. यह देख लोगों ने शोर मचाया. मछलियां पकड़ रहे मछुआरे मां बेटी को बचाने के लिए नदी में कूद गए. उन्होंने दोनों को बाहर निकाला. बच्ची की धड़कन चल रही थीं, तो उसे तुरंत बरखेड़ा में एक डॉक्टर के पास ले गए जहां पर उसने दम तोड़ दिया. जबकि महिला को बचा लिया गया. घटना की जानकारी होने पर ससुर रामपाल मौके पर पहुंचे, सूचना मिलते ही पुलिस भी आ गई.

------------------

जब नहीं रहेंगे तो ताने किसे दोगे

नदी से बाहर निकाला गया तो निर्मला देवी की आंखों में आंसू थे. वह चीखकर कह रही थीं कि जब मैं और मेरी बेटी ही नहीं रहेगी तो किसने ताने दिए जाएंगे. वह ससुरालियों के तानों से तंग आ चुकी हैं. वहीं नदी में छलांग लगाने से पहले महिला ने पर्स व मोबाइल निकालकर किनारे पर रख दिया था.

--------------

पुलिस व ससुराल वालों ने गढ़ी कहानी

घटना को लेकर पुलिस व ससुराल वालों ने अलग ही कहानी गढ़ दी. पति गंगाशरण का कहना है कि निर्मला बहनोई के गांव बिहारीपुर नौगांवा बच्ची को लेकर वहां जा रही थीं. रास्ते में पत्नी ने बच्ची के हाथ से नदी में पैसे चढ़वाए, इसी बीच उनका पैर फिसल गया. जिससे बच्ची छूट कर नदी में गिर गई उसे बचाने के लिए वह भी नदी में कूद गई. आत्महत्या की कोशिश की बात गलत है.