-जौनपुर निवासी प्रतियोगी छात्र की मौत के बाद परिवार में मचा रोना पीटना

-जार्जटाउन पुलिस ने लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेजा, नहीं मिला कोई सुसाइड नोट

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: एक प्रतियोगी छात्र ने नौकरी न मिलने से परेशान होकर फांसी पर लटकर पर खुद का जीवन समाप्त कर लिया. विकास मौर्या नामक युवक गुरुवार देर रात बाथरूम में फांसी के फंदे पर झूल गया. शुक्रवार सुबह उसकी लाश लटकी मिली. छात्र के मौत की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची जार्जटाउन पुलिस ने छानबीन की लेकिन छात्र के कमरे से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला. उधर विकास की मौत से परिवार में रोना-पीटना मचा हुआ है.

जौनपुर का रहने वाला

विकास मौर्या जौनपुर जनपद के केराकत थाना क्षेत्र स्थित नरहन गांव का निवासी था. उसके पिता रामहरख खेती किसानी करते हैं. विकास अल्लापुर मोहल्ले में सुजीत कुमार सिंह के मकान में किराए पर रहता था और प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था. बताया जाता है कि उसी के कमरे में अखिलेश पासवान भी अपने सगे भाई के साथ रहता था. शुक्रवार को सुबह जब उसके साथी बाथरूम गए तो विकास की लाश फंदे से लटकता देख दंग रह गए. कुछ ही देर में लोगों की भीड़ जमा हो गई. सूचना मिलने पर जार्ज टाउन पुलिस भी मौके पर पहुंची, पुलिस के मुताबिक गुरुवार रात करीब तीन बजे तक सभी छात्र कमरे में पढ़ाई कर रहे थे. इसके बाद आराम करने की बात हुई. तो विकास बाथरूम जाने के लिए कहा. इसके बाद उसने बाथरूम में जाने के बाद फांसी के फंदे पर लटककर खुदकुशी कर ली. शुक्रवार सुबह करीब नौ बजे जब दूसरे छात्र मकान के तीसरे मंजिल पर बने बाथरूम में पहुंचे तो वहां विकास की लाश मफलर के बने फंदे से लटक रही थी. शोर मचते ही मकान मालिक सुजीत भी पहुंच गया और पुलिस को खबर दी.

घर में सबसे छोटा था

चौकी इंचार्ज अरविंद सिंह मौके पर पहुंचे और छात्रों से पूछताछ के बाद कमरे की जांच की. चौकी इंचार्ज ने बताया कि नौकरी नहीं मिलने से विकास काफी परेशान था. इसी कारण उसने खुदकशी की है. पोस्टमार्टम हाउस पर मौजूद गमजदा बड़े भाई सुनील ने बताया कि विकास घर में सबसे छोटा था. करीब तीन साल से प्रयागराज में रहकर तैयारी कर रहा था. बेटे की मौत पर मां निर्मला व पिता भी बिलखते रहे.