सिंगिंग की क्लासेज शुरू हो रही
RANCHI: स्कूलों में गर्मियों की छुट्टियां शुरू हो गई हैं. करीब एक महीने तक छुट्टियों में बीतने वाला समय कुछ क्रिएटिव हो, इसके लिए स्टूडेंट्स कुछ नए अन्दाज में सीखने की लालसा रखते हैं. इसी को देखते हुए एक ओर जहां मिनी इवेंट मैनेजमेंट कंपनियां स्कूल और खास स्थानों पर समर कैंप का आयोजन कर रही हैं, तो सिंगिंग के शौकीनों के लिए भी सिंगिंग सिखाने वाले संस्थानों ने ऑप्शन के दरवाजे खोल दिए हैं. समर स्पेशल सिंगिंग की क्लासेज शुरू हो रही हैं. सिंगिंग का शौक रखने वाले बच्चों के लिए अवसर है कि सिंगिंग कैंप के माध्यम से अपने संगीत की ग्रूमिंग कर सकते हैं.

म्यूजिक इंस्ट्रूमेंट्स की क्लास
सिंगिंग की ट्रेनिंग देने वाली एजेंसियों ने समर वेकेशन में संगीत के उपकरणों को सिखाने के लिए प्लानिंग की है, जिसके तहत स्टूडेंट्स की-बोर्ड, ऑक्टोपेड, गिटार आदि सीख सकते हैं. इसके लिए उन्होंने 15 दिनों की क्लास शुरू की है. जो बच्चे म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स बजाने का शौक रखते हैं, वे प्राईमरी लेवल से लेकर म्यूजिक के विभिन्न स्तरों की ट्रेनिंग ले सकते हैं.

दो लेवल पर सिंगिंग की ट्रेनिंग
सिंगिंग इंस्टीट्रयूट की ओर से दो तरह से संगीत की क्लास चलाई जा रही हैं. पहला भाव संगीत हैं, जिसमें भजन, गजल और अन्य लोक गीतों का प्रशिक्षण दिया जा रहा है. वहीं दूसरी श्रेणी में स्टेज सिंगिंग है, जिसके तहत प्रशिक्षुओं को बॉलीवूड संगीत का प्रशिक्षण दिया जा रहा है. ये क्लासेज 15 से 20 दिनों तक चलेंगी.

क्या है फीस

भाव संगीत: 1500 रुपये

स्टेज संगीत: 2000 रुपये

इंस्ट्रुमेंट ट्रेनिंग: 1000 रुपये

रजिस्ट्रेशन शुल्क : 300 -400 रुपये

संगीत को लेकर आत्मविश्वास बढेगा
हम 3 जून से सिंगिंग की क्लास स्टार्ट कर रहे हैं, जो 15 दिनों तक चलेंगी. इसमें रेगुलर स्टूडेंट्स तो पार्टीसिपेट कर ही सकते हैं साथ ही ऐसे स्टूडेंट्स भी भाग ले सकते हैं, जो संगीत से लगाव रखते हैं और आगे करियर के रूप में संगीत अपनाना चाहते हैं. उनके लिये 15 दिनों की क्लास ग्रूमिंग का काम करेगी और उनमें संगीत को लेकर आत्मविश्वास बढेगा.

-चुमकी रॉय, सिंफनी म्यूजिक