नई दिल्ली (पीटीआई)। एक समय भारतीय तेज गेंदबाजी की मुख्य धार रहे एस श्रीसंत को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी राहत दी है। शुक्रवार को कोर्ट ने बीसीसीआई को आदेश दिया कि वह श्रीसंत से आजीवन बैन हटा दे। जस्टिस अशोक भूषण और केएम जोसेफ वाली बेंच ने भारतीय क्रिकेट बोर्ड की अनुशासनात्मक कमेटी से कहा कि श्रीसंत की सजा पर तीन महीने के अंदर पुर्नविचार करें। यही नहीं कोर्ट ने बोर्ड को श्रीसंत का पक्ष सुनने के लिए भी कहा।

श्रीसंत पर आजीवन बैन हटा
सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से साफ है कि श्रीसंत पर आजीवन बैन हट जाएगा। हालांकि बीसीसीआई के पास तीन महीने का मौका है और वह आजीवन बैन हटने के बाद श्रीसंत को कितने दिनों की सजा देनी है, इस पर फैसला बाकी है। बता दें साल 2013 में श्रीसंत उस वक्त चर्चा में आए थे जब उन पर स्पाॅट फिक्सिंग का आरोप लगा। जांच में उन्हें दोषी पाया गया जिसके बाद बोर्ड ने श्रीसंत पर लाइफटाइम बैन लगा दिया। इसके खिलाफ श्रीसंत ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी।

2005 में किया था डेब्यू
क्रिकेटर एस श्रीसंत का जन्म केरला में हुआ था और उन्होंने 25 अक्टूबर साल 2005 में टीम श्रीलंका के खिलाफ अपना डेब्यू वनडे खेला था। बता दें कि इन्होंने अपने करियर में कुल 27 टेस्ट और 53 वनडे मैच खेले हैं। आकड़ों के मुताबिक ये टेस्ट मैच में एक पारी में एक साथ 5 विकेट लेने का कारनामा तीन बार कर चुके हैं, वहीं वनडे में उन्हें एक बार 5 विकेट मिले हैं।

IPL 2019 : जानें किस टीम में कौन खिलाड़ी है सबसे महंगा


Ind vs Aus : बिना बल्ले के छक्का लगाने चले रोहित, हुए स्टंप आउट

Cricket News inextlive from Cricket News Desk