कानपुर। ताजमहल के रखरखाव को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट ने सख्त रुख अपनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को एेतिहासिक भवन ताजमहल के खराब रखरखाव को लेकर फटकार लगार्इ आैर कहा कि हम एेतिहासिक स्थलों को लेकर चिंतित है। इसके लिए यूपी सरकार को भी एक्टिव होना होगा। इतना ही नहीं इस एेतिहासिक स्थल के सरंक्षण को लेकर यूपी सरकार से उसका विजन डाॅक्यूमेंट भी पूछा कि आखिर वह इसे कैसे संरक्षित और सुरक्षित करना चाहती है। इसे सदियों तक चमकाए रखने का क्या प्लान है।  
ताजमहल को कैसे चमकाए रखेंगे,सुप्रीम कोर्ट ने यूपी गवर्मेंट से 4 हफ्ते में मांगा विजन डाॅक्यूमेंट प्लान
प्लान पेश करने के लिए 4 हफ्ते का समय दिया

एेसे में यूपी सरकार को विजन डाॅक्यूमेंट प्लान पेश करने के लिए 4 हफ्ते का समय दिया है। बता दें कि दुनिया के सात आश्चर्यों में व खूबसूरत एेतिहासिक भवनों में गिना जाने वाले ताजमहल को मुगल बादशाह शाहजहां ने 1631 में बनवाया था। खबरों की मानें तो जिस अरमान के साथ शाहजहां ने यमुना किनारे इस इमारत की नींव रखी थी, वह अब दरकने लगी है। चारदीवारी से लेकर मुख्य गुम्बद तक के पत्थर अपनी जगह छोड़ रहे हैं। अपनी सफेद संगमरमरी काया से मनमोह लेने वाली मुख्य स्मारक की भी हालत ठीक नहीं है।

National News inextlive from India News Desk