8 यूपी 100 की गाडि़यों की मोहिउद्दीनपुर से दौराला के मटौर तक ड्यूटी, लेकिन वे दिखी नदारद

नेशनल हाईवे पर बनी पुलिस चौकी बन गई शोपीस

डीजीपी ने की थी नेशनल हाइवे पर यूपी 100 डायल की तैनाती

Meerut. बीते शुक्रवार को दिल्ली -हरिद्वार हाईवे पर लूटपाट कर दुल्हन की हत्या के बाद भी हाईवे पर सुरक्षा नहीं दिखी. गौरतलब है कि शुक्रवार को मुजफ्फरनगर के मिमलाना रोड निवासी शाहवेज पुत्र शमशाद की बरात गाजियाबाद के गांव नाहल में गई थी. शुक्रवार रात करीब 11 बजे दूल्हा शाहवेज विदा कराकर दुल्हन कहविश परवीन उर्फ फरहाना को कार से लेकर मुजफ्फरनगर लौट रहे थे. दिल्ली -हरिद्वार हाईवे पर गांव मटौर के पास दो कारों से आए बदमाशों ने दुल्हन के गहने उतरवा कर पति और रिश्तेदारों से कैश भी लूट लिया. विरोध करने पर बदमाशों ने पति शाहवेज पर गोली चला दी, लेकिन पत्‍‌नी कहविश परवीन सामने आ गई, जिससे गोली उसे जा लगी और मौके पर ही उसकी मौत हो गई.

डीजीपी के आदेश बेअसर

डीजीपी के आदेश के बावजूद भी नेशनल हाइवे पर सुरक्षा को लेकर पुलिस की संजीदगी नहीं दिखी. दुल्हन की हत्या के बाद शनिवार को भी नेशनल हाइवे पर यूपी डायल 100 की गाडि़यां तैनात नहीं थी, जबकि थाना परतापुर के मोहिउद्दीनपुर से दौराला के मटौर तक यूपी 100 की 8 गाडि़यों की नेशनल हाइवे पर डयूटी है. एसएसपी मंजिल सैनी ने बताया कि केस की जांच चल रही है. यूपी डायल 100 पुलिस कर्मियों की लापरवाही सामने आई है. उनके खिलाफ जांच बिठा दी है. रिपोर्ट मिलने पर कार्रवाई कर दी जाएगी.

मुकीम काला गैंग पर शक

नेशनल हाइवे पर बदमाशों द्वारा दुल्हन की हत्या करके जेवरात व कार लूटने के मामले में पुलिस का शक मुकीम काला गैंग पर है. हालांकि पुलिस के मुताबिक अभी हाइवे पर लूटपाट करने वाले सभी गैंगों को तलाशा जा रहा है. पुलिस को टोल प्लाजा पर सबूत जरूर मिले हैं लेकिन पुलिस अभी कुछ बताने से इंकार कर रही है.

नहीं लगी ड्यूटी

डीजीपी के आदेश पर पिछले एक महीने से नेशनल हाइवे पर यूपी डायल 100 की डयूटियां लग रही थी. लेकिन अब 15 दिनों से नेशनल हाइवे से यूपी 100 डायल की गाडि़यां एकाएक गायब हो गई थी. पुलिस अधिकारियों ने उनकी डयूटी किसी अन्य क्षेत्रों में लगा दी थी. जिसके कारण नेशनल हाइवे पर घटना हो गई.

कई बिंदुओं पर जांच

एसपी सिटी श्रीप्रकाश द्विवेदी ने बताया कि पुलिस कई बिंदुओं पर जांच कर रही है. सभी बिंदुओं को केस से जोड़ा जा रहा है, लेकिन अभी तक कुछ सामने निकल कर नहीं आया है.

नेशनल हाइवे के हर दो किलोमीटर की दूरी पर हाईटेक पुलिस चौकी का निर्माण होना चाहिए. सभी पुलिस चौकियां आपस में कनेक्ट होनी चाहिए.

मनीष भारती, मेरठ

नेशनल हाइवे पर नाम मात्र को सुरक्षा रहती है. जब कोई बदमाश हाइवे पर घटना करता है तो जल्दी से वहां पर कोई किसी की मदद भी नहीं करता है. इसलिए हाइवे पर फैंटम पुलिस की भी तैनाती की जानी चाहिए.

हसीन सैफी, रजबन बाजार

-नेशनल हाइवे पर एंट्री होते ही ट्रैफिक बूथ व पुलिस चेक बूथ होने चाहिए. जिससे वहां पर निकलने वाले वाहन की चेकिंग हो सके.

विजय चौधरी, एडवोकेट

नेशनल हाइवे कई बड़ी घटनाएं हो चुकी है. चूंकि कई रास्तों में अंधेरा हो जाता है. जिससे बदमाश जंगल से निकल कर यात्रियों को अपना निशाना बना लेते है.नेशनल हाइवे पर लाइटिंग व पुलिस चौकी की व्यवस्था होनी चाहिए.

अरविंद मारवाड़ी, व्यापारी