केन्द्र सरकार की स्वदेश दर्शन योजना से जुड़ा श्रृंगवेरपुर, विकास के लिए जारी हुआ 23 करोड़ का बजट

इसी स्थल पर प्रभु श्रीराम, माता जानकी और भाई लक्ष्मण ने किया था रात्रि विश्राम

dhruva.shankar@inext.co.in

ALLAHABAD: प्रभु श्रीराम को अयोध्या के राजपाट की जगह पर चौदह वर्ष का वनवास मिला था तो वनवास जाने के लिए उन्हें श्रृंगवेरपुर में निषादराज ने नाव से गंगा नदी पार करने में सहायता की थी. धार्मिक महत्व के श्रृंगवरेपुर स्थल के इतिहास और उसकी महत्ता को पूरी दुनिया को अवगत कराने के लिए केन्द्र सरकार ने उसके लिए विशेष कार्ययोजना बनाई है. केन्द्र के संस्कृति मंत्रालय ने स्वदेश दर्शन योजना के अन्तर्गत रामायण सर्किट में श्रृंगवेरपुर को न केवल शामिल किया है बल्कि उसके विकास के लिए 23 करोड़ रुपए का बजट भी रिलीज कर दिया है.

देंगे ग्लोबल पहचान

संस्कृति मंत्रालय द्वारा श्रृंगवेरपुर के विकास के लिए एक सप्ताह पहले 23 करोड़ का बजट रिलीज किया गया है. बजट रिलीज होते ही पर्यटन विभाग सक्रिय हो गया. विभाग ने उसका डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट यानि डीपीआर बनाने की जिम्मेदारी गुड़गांव की कंपनी दाराशाह लिमिटेड को सौंपा है. कंपनी को दो महीने के भीतर डीपीआर बनाकर देने का निर्देश दिया है. उसके बाद डीपीआर लखनऊ स्थित पर्यटन विभाग के महानिदेशक के पास संस्तुति के लिए भेजा जाएगा. अधिकारियों की मानें तो वर्ष के आखिरी महीने दिसम्बर तक काम पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया है.

अलग होगी पहचान

इलाहाबाद लखनऊ मार्ग पर मुख्य रोड से तीन किमी और कुल चालीस किमी की दूरी पर गंगा नदी के किनारे श्रृंगवेरपुर स्थित है. जिसकी महत्ता का वर्णन गोस्वामी तुलसीदास ने खुद रामचरितमानस में किया है. मानस के अयोध्या कांड में प्रभु श्रीराम के श्रृंगवेरपुर नमन, निषादराज से भेंट, नाव से गंगा पार करने जैसे प्रसंगों का विस्तार से वर्णन हुआ है. इस जगह पर स्थित सीता स्थल जहां माता जानकी ने स्नान किया था, रामचौरा जहां प्रभु श्रीराम ने ध्यान लगाया व वीर आसन जहां लक्ष्मण की पादुका रखी हुई है का पूरी तरह से सौंदर्यीकरण किया जाएगा.

ये काम भी कराएं जाएंगे

संध्या घाट का सौंदर्यीकरण

टूरिस्ट फैसिलिटेशन सेंटर

एसी वेटिंग रूम, वॉटर कूलर, इंफारमेशन सेंटर

चालीस सोलर लाइट

दो किमी का पाथ वे इंटर लाकिंग

पार्किंग व साइनेज

क्या है रामायण सर्किट

केन्द्र सरकार के संस्कृति मंत्रालय ने स्वदेश दर्शन योजना के तहत प्रभु श्रीराम जिन-जिन स्थलों से गुजरे थे उसे विकसित करने व सौंदर्यीकरण का प्लान बनाया है. ताकि देश-दुनिया के लोगों को उन स्थलों की महत्ता व इतिहास की जानकारी आसानी से मिल सके और उसे टूरिस्ट प्लेस के रूप में विकसित किया जा सके. योजना के अन्तर्गत अयोध्या, इलाहाबाद व चित्रकूट में सौंदर्यीकरण का काम कराया जाना है.

स्वदेश दर्शन योजना के तहत श्रृंगवेरपुर के विकास के लिए 23 करोड़ का बजट मिला है. एक कंपनी से डीपीआर बनवाया जा रहा है. प्रमुख सचिव पर्यटन की संस्तुति मिलते ही काम शुरू करा दिया जाएगा.

अनुपम श्रीवास्तव, क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी