स्वाइन फ्लू से प्रदेश में एक और मौत

देहरादून:

स्वाइन फ्लू की दशहत शनिवार को फिर बढ़ गई. स्वाइन फ्लू से हुई तीसरी मौत के कारण एक ओर जहां स्वास्थ्य विभाग सकते में है, वहीं दूसरी ओर आम नागरिक भी अब डरने लगे हैं, हालांकि डॉक्टर्स ने का कहना है कि सावधानी बरतने से स्वाइन फ्लू से बचा जा सकता है.

इंदरेश हॉस्पिटल में हुई मौत

स्वाइन फ्लू से तीसरी मौत विकासनगर निवासी मरीज की हुई है, जो श्री महंत इंदिरेश अस्पताल में भर्ती था। मरीज को शुक्रवार को इमरजेंसी में भर्ती किया गया था. स्थिति गंभीर होने के कारण उसका उपचार आईसीयू में चल रहा था. डॉक्टर्स के अनुसार मरीज को पिछले दो दिन से तेज बुखार, कफ व सांस लेने में दिक्कत हो रही थी. उसने शनिवार को दम तोड़ दिया.

तीसरे दिन तीसरी मौत की पुष्टि

स्वाइन फ्लू से पहली मौत तीन जनवरी को मैक्स अस्पताल में हुई थी, जहां प्रेमनगर निवासी एक मरीज की मौत हुई थी. जिसकी पुष्टि गुरुवार को की गई थी. शुक्रवार को महंत इंदिरेश अस्पताल में हरिद्वार निवासी 41 वर्षीय महिला मरीज की मौत स्वाइन फ्लू के कारण हुई थी जबकि शनिवार को इसी अस्पताल में तीसरे मरीज की मौत हो गई.

5 मरीज अस्पतालों में भर्ती

स्वाइन फ्लू से पीडि़त पांच मरीज महंत इंदिरेश, सिनर्जी और मैक्स अस्पताल में भर्ती हैं. शुरुआती चरण में ही स्वाइन फ्लू के बढ़ते कहर से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मचा हुआ है. विभागीय अधिकारी वायरस के जिन लक्षणों को सामान्य स्थिति बता रहे हैं, वही लक्षण जानलेवा साबित हो रहे हैं.

अस्पतालों को एहतियात के निर्देश

स्वास्थ्य विभाग द्वारा सभी सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों को एहतियात बरतने के निर्देश जारी किए गए हैं. स्वाइन फ्लू के मरीजों के लिए अलग वार्ड बनाने के निर्देश भी दिए गए हैं. सीएमओ डॉ. एसके गुप्ता का कहना है कि सभी अस्पतालों को निर्देश दिए गए हैं कि स्वाइन फ्लू से पीडि़त मरीजों के उपचार में किसी भी तरह की लापरवाही न बरती जाए. स्वाइन फ्लू का मामला सामने आने पर इसकी सूचना तत्काल सीएमओ कार्यालय को दें। सीएमओ ने कहा कि लोगों को स्वाइन फ्लू से घबराने की नहीं बल्कि एहतियात बरतने की आवश्यकता है.