i exclusive

सेंटर बनाने के लिए विद्यालयों की कमी दूर करने के लिए यूपी बोर्ड की पहल

डिबार स्कूल बनेगा सेंटर, केन्द्र व्यवस्थापक से लेकर टीचर तक बदले जाएंगे

prakashmani.tripathi@inext.co.in

PRAYAGRAJ: यूपी बोर्ड की परीक्षा के दौरान सामूहिक नकल में पकड़ा जान कोई भी स्कूल अब डिबार नहीं होगा. डिबार सिस्टम को किया जाएगा जो परीक्षा केन्द्र के व्यवस्था देख रहा होगा. यानी केन्द्र व्यवस्थापक से लेकर टीचर तक सबको हटा दिया जाएगा. यूपी बोर्ड यह फैसला लेने की राह पर कदम आगे बढ़ा चुका है. यह स्थिति डिबार केन्द्रों के चलते सेंटर बनाने के लिए स्कूलों की कमी के चलते आयी है. बोर्ड इससे रिलेटेड प्रस्ताव तैयार कर चुका है. इसे शासन को मंजूरी के लिए भेजा जाना है. शासन से भी ग्रीन सिग्नल मिल जाने पर नेक्स्ट इयर आयोजित होने वाली बोर्ड परीक्षा से इसे लागू कर दिया जाएगा.

केन्द्र बनाने में आती थी समस्या

यूपी बोर्ड से मान्यता प्राप्त तमाम स्कूल ऐसे हैं जहां फॉर्म भरवाने से लेकर परीक्षा के दौरान नकल कराने तक का सौदा होता है. सामूहिक नकल भी बेहद कॉमन है. लास्ट इयर शासन ने सख्ती बरती तो करीब 14 लाख परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी. इससे बोर्ड की साख को गहरा धक्का लगा. बोर्ड के पास अब तक स्कूल को डिबार करने के अलावा कोई चारा नहीं था. इसके चलते सेंटर बनने वाले स्कूलों की संख्या लगातार कम हो रही थी. इस बार परीक्षा केन्द्र बनाने के लिए स्कूलों की कमी का सामना करना पड़ा. इससे सिस्टम को डिबार करने की मार्ग प्रशस्त हुआ.

सेंटर बनाने में समस्याएं

बोर्ड ने क्राइटेरिया बनाया है कि छात्राओं का सेंटर पांच किलोमीटर से दूर नहीं बनेगा

छात्रों का सेंटर उनके मूल विद्यालय से आठ किलोमीटर से ज्यादा दूर नहीं बनाया जायेगा

अब नौबत यह है कि जिन एरिया में पहले से स्कूल डिबार है, उनके आस पास कोई अन्य ऐसा स्कूल नहीं है, जिसे केन्द्र बनाया जा सके

इससे परीक्षार्थियों के केन्द्र की दूरी बढ़ाना मजबूरी हो जाएगा

यह व्यवस्था छात्र और छात्राओं दोनो के लिए मुश्किल पैदा करेगी

स्कूलों की संख्या कम हो जाने से ज्यादा बच्चों का सेंटर एक स्कूल में बनाने का प्रेशर भी बनने लगा

नए प्रस्ताव की खास बातें

सामूहिक नकल में पकड़े जाने पर स्कूल डिबार नहीं होगा

पूरे सिस्टम को डिबार घोषित कर दिया जायेगा

यानी डिबार होने वाले केन्द्र के प्रधानाचार्य, टीचर और दूसरे स्टॉफ मेंबर नेक्स्ट इयर उस सेंटर पर काम नहीं करेंगे

यहां नए लोगों को केन्द्र व्यवस्थापक से लेकर कक्ष निरीक्षक तक की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी

438

केन्द्र लास्ट इयर की बोर्ड परीक्षा के दौरान हुए थे डिबार

8,549

लास्ट इयर बोर्ड परीक्षा के लिए बनाए गए थे कुल केन्द्र

8,549

लास्ट इयर हाईस्कूल के लिए बनाए गए केन्द्रों की थी संख्या

8444

लास्ट इयर इंटरमीडिएट के लिए बनाए गए केन्द्रों की थी संख्या

8000

केन्द्र की इस बार बोर्ड ने तैयार की है सूची