- अपर मुख्य सचिव व कानपुर के नोडल अधिकारी आलोक सिन्हा ने समीक्षा बैठक में दिखाए कड़े तेवर

kanpur@inext.co.in

KANPUR : सरकारी विभागों की कीमती जमीन से हर हाल में अवैध कब्जा हटवाया जाए. नगर निगम, सिंचाई, शिक्षा और वन सहित सभी विभागों के टॉप 10 भूमाफियाओं को चिन्हित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए. दबंगों को जेल में होना चाहिए, उनका बाहर कोई काम नहीं. मंगलवार को विकास भवन में आयोजित समीक्षा बैठक में कड़े तेवर दिखाते हुए शहर के नोडल अफसर व अपर मुख्य सचिव वाणिज्य कर, मनोरंजन कर, आईटी एवं इलेक्ट्रॉनिक्स आलोक सिन्हा ने अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए. मीटिंग में एडीएम फाइनेंस संजय चौहान ने बताया कि अभियान चलाकर 590 हेक्टेयर भूमि से अवैध कब्जे हटवाए गए हैं. मीटिंग के दौरान केडीए वीसी सौम्या अग्रवाल, नगर आयुक्त संतोष कुमार शर्मा, सीडीओ अभिषेक आंनद सहित अन्य अधिकारी माैजूद रहे.

विभागों को दिए यह निर्देश

-जल निगम के अधिशासी अभियंता बैठक में अनुपस्थित थे. इस पर अपर मुख्य सचिव ने सहायक अभियंता को बैठक से बाहर करते हुए निर्देशित किया कि जानकारी वरिष्ठ अधिकारी ही देंगे.

-स्वास्थ विभाग की समीक्षा के दौरान सीएमओ ने बताया कि प्रति दिन लगभग 3000 मरीज ओपीडी में आते हैं. आलोक सिन्हा ने निर्देश दिए कि जननी सुरक्षा योजना में गर्भवती महिला का आधार नंबर एवं बैंक प्रथम बार चेकअप के समय ही ले लिया जाए.

-बेसिक शिक्षा की समीक्षा करते हुए निर्देशित किया की प्रत्येक विद्यालय में ब्वॉयज और ग‌र्ल्स के लिए अलग-अलग शौचालय एवं पानी की व्यवस्था होनी चाहिए. सीडीओ को निर्देश दिए कि विद्यालयों के कायाकल्प के लिए कारपोरेट सेक्टर की मदद ली जाए. इसी प्रकार आंगनबाड़ी केंद्रों में प्ले होम बनाए जा सकते हैं.

-राष्ट्रीय आजीविका मिशन की समीक्षा करते हुए निर्देशित किया कि प्रत्येक ब्लॉक में एक-एक नवीन व मौलिक महिला समूह से वह मिलेंगे.

-नगर निगम के कार्यो की समीक्षा करते हुए अपर मुख्य सचिव ने निर्देशित किया कि सार्वजनिक शौचालयों के रख रखाव, शेल्टर होम के रखरखाव की स्थिति को अलग से बताएं. नगर की जल निकासी योजना का मास्टर प्लान प्रस्तुत करें.

-विद्युत व्यवस्था की समीक्षा करते हुए अपर मुख्य सचिव ने कहा कि 2 सब स्टेशन एवं अतिरिक्त एचटी व एलटी बनते ही सौभाग्य योजना का लक्ष्य पूरा होने का औचित्य स्पष्ट करें.

-कृषि विभाग की समीक्षा करते हुए निर्देशित किया कि किसान को प्रमाणिक बीज मिले. यह सुनिश्चित किया जाए.