टी हॉक कंपनी ने उतारी सबसे आसान फ्लाइंग कार

कानपुर। गूगल कंपनी के को-फाउंडर लैरी पेज का स्टार्टअप प्रोजेक्ट किटी हॉक लोगों को उड़ने वाला एक नया तोहफा देने जा रहा है। डेलीमेल के रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी ने अपनी उड़ने वाली कार की नई डिटेल जारी की है। इस कंपनी की फ्लाइंग कार का नाम है 'फ्लायर'। कंपनी का कहना है कि लोग 10 छोटे पंखों वाली उनकी इस फ्लाइंग कार को टेस्ट करने या चलाने के लिए बुकिंग कर सकते हैं। कंपनी ने अपनी इस कार की खासियतें बताते हुए कहा है कि उनकी फ्लायर कार ड्राइविंग के लिहाज से शायद सबसे आसान है, तभी तो इसे चलाने के लिए किसी व्यक्ति को प्रोफेशनल पायलट लाइसेंस की जरूरत नहीं पड़ेगी। सही नहीं जो लोग भी इस कार को उड़ाना चाहते हैं, वो सिर्फ1 घंटे की बेसिक ट्रेनिंग के बाद इस कार को आसमान में उड़ा सकेंगे।

113 किलोग्राम वजन वाली यह कार उड़ेगी 20 मील प्रतिघंटा की स्‍पीड से

ब्‍लूमबर्ग ने किट्टी हॉक के सीईओ सेबेस्टियन थ्रुन के हवाले से बताया कि आने वाले दिनों में कंपनी की इस फ्लाइंग कार की स्पीड 50 या 100 मील प्रति घंटा तक हो जाएगी जो अभी फिलहाल सिर्फ 20 मील प्रति घंटा है। यानि यह फ्लाइंग कार करीब 32 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से हवा में 10 फुट की ऊँचाई पर उड़ाई जा सकेगी। यह फ्लाइंग कार इंसानी आकार के एक छोटे ड्रोन जैसी दिखाई देती है, जिसमें 10 बैट्रीज लगी हैं, जिन्‍हें एक बार चार्ज करके 20 मिनट की उड़ान भरी जा सकती है।

फिलहाल सिर्फ टेस्टिंग के लिए है उपलब्ध

किट्टी हॉक के सीईओ सेबेस्टियन थ्रन ने सीएनएन को बताया है कि उनका यह फ्लाइंग कार फिलहाल टेस्टिंग के लिए उपलब्ध है, जिसे यूजर लास वेगास की एक झील के ऊपर उड़ा सकते हैं। सुरक्षा के दृष्टिकोण से यह फ्लाइंग कार अभी सड़क या भीड़ भाड़ वाली जगह पर नहीं उड़ाई जा रही है। कंपनी कहना है कि अभी भले ही इस फ्लाइंग कार को उड़ाने के लिए लोगों को घंटे भर की ट्रेनिंग लेनी पड़ेगी लेकिन एक बार ट्रेनिंग पूरी हो जाने के बाद सिर्फ 5 मिनट में कोई भी व्यक्ति उनकी फ्लाइंग कार को उड़ाने के लिए तैयार हो सकते है।


किसी हेलीकॉप्‍टर जैसी मुश्किल नहीं है 'फ्लायर'

किटी हॉक द्वारा बनाई गई यह फ्लाइंग कार किसी हेलीकॉप्‍टर को चलाने जैसी मुश्किल नहीं है। कंपनी के सीईओ के मुताबिक उनकी इस फ्लाइंग मशीन को उड़ाना बहुत ज्यादा आसान है, क्योंकि इसमें सिर्फ दो कंट्रोल्‍स लगे हैं, जिन्‍हें मैनेज करना आम लोगों के लिए भी आसान होगा। तभी तो कंपनी का दावा है कि सिर्फ एक घंटे में कोई भी व्‍यक्ति इसे चलाने की ट्रेनिंग पूरी कर लेगा।

यह भी पढ़ें:

धरती का 'एक दिन' पहले सिर्फ 18 घंटे का था, अब 24 का हो गया है, यह कारस्तानी अपने चांद की है?

खीरा देखकर डर से उछल जाने वाली बिल्लियां तो बहुत देखीं, पर इसकी सच्‍चाई आज पता चली

वैज्ञानिकों ने बनाई इंसानो जैसी 'इलेक्‍ट्रानिक' स्किन, जो बिना छुए एक दूसरे से कर सकती है कम्‍यूनीकेशन!

Technology News inextlive from Technology News Desk