हमलावरों की घेराबंदी के लिए भेजे गए सुरक्षाबल
रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता दौलत वजीर के मुताबिक शुक्रवार देर रात आतंकियों के बड़े दस्ते ने फराह प्रांत में सेना के बाला बुलक ठिकाने पर हमला किया। वहां पर 18 जवान मारे गए जबकि दो घायल हुए हैं। वहां पर हमलावरों की घेराबंदी के लिए सुरक्षा बल भेजे गए हैं। हमले की जिम्मेदारी तालिबान ने ली है। जबकि दूसरी घटना शनिवार सुबह काबुल के डिप्लोमैटिक एरिया में हुई। इस घटना में आत्मघाती हमलावर ने तीन लोगों को मार डाला और पांच को घायल कर दिया।

नजदीक में अमेरिकी दूतावास और नाटो मुख्‍यालय
यहां पर हमलावर पैदल चलता हुआ आया था। जिस स्थान पर यह हमला हुआ उसके नजदीक ही अमेरिकी दूतावास, अफगानिस्तान में नाटो का मुख्यालय, अफगान इंटेलीजेंस एजेंसी का मुख्यालय व अन्य महत्वपूर्ण इमारतें हैं। बीते दिसंबर महीने में भी इसी इलाके में आत्मघाती हमला हुआ था जिसमें छह लोग मारे गए थे।

विस्‍फोट के लिए हमलावरों ने हम्‍वी कार इस्‍तेमाल
हेल्मंड प्रांत में तालिबान के एक अन्य आत्मघाती हमले में दो सैनिक मारे गए हैं और दर्जन भर घायल हुए हैं। नाद अली जिले में हुई घटना में हमलावरों ने हम्वी कार का विस्फोट के लिए इस्तेमाल किया। पहली बार सुपर लक्जरी यह गाड़ी आतंकी हमले में प्रयुक्त की गई है। अफगानिस्तान में इस गाड़ी को अमेरिकी सेना भी इस्तेमाल कर रही है। इसी प्रांत के लश्कर गाह में हुए एक अन्य हमले में सात लोग घायल हुए हैं।

International News inextlive from World News Desk