- परिजनों के अनुमति ना मिलने से नहीं हटाई जा सकी हैं कब्रें

Meerut . आवास विकास की जागृति विहार एक्सटेंशन योजना संख्या 11 में विकास कार्य शुरु हुए दो माह से अधिक का समय बीत चुका है. एक्सटेंशन में मुख्य मार्गो का तेजी से निर्माण किया जा रहा है ऐसे में एक्सटेंशन में जगह जगह बनी एक दर्जन से अधिक कब्रें आवास विकास के अधिकारियों के लिए परेशानी का सबब बनी हुई हैं. कब्रों को तोडे़ बिना आवास विकास सड़क निर्माण पूरा नही कर सकता है और कब्रों को तोड़ने के लिए परिजनों की अनुमति आवास विकास को मिल नही पा रही है. ऐसे में आवास विकास की परियोजना अधर में अटकी हुई है.

एक दर्जन से अधिक कब्रें

जागृति विहार एक्सटेंशन को काजीपुर, सरायकाजी, घोसीपुर और कमालपुर की जमीन को अधिकृत कर विकसित किया जा रहा है. इस जमीन पर सालों से खेती का काम किया जा रहा था और आसपास के सभी गांवों के कब्रिस्तान और पीर आदि भी इसी क्षेत्र में बनाए गए थे ऐसे में अब अधिग्रहण होने के बाद खेतों की जमीन को तो आवास विकास ने खाली करा दिया लेकिन इन कब्रों और पीर के मामले में विचार चल रहा है.

परिजनों से नही मिली अनुमति

फिलहाल एक्सटेंशन के सेक्टर तीन में मुख्य मार्ग लगभग 60 प्रतिशत पूरे हो चुके है लेकिन मुख्य मार्ग पर आ रही कब्र के कारण दो मार्गो का काम बीच में रुका हुआ है. इन दोनो कब्रों के परिजनों से बात कर हटाने की प्रक्रिया की गई लेकिन परिजनों की अनुमति नही मिल सकी. अनुमति के बिना आवास विकास अपना निर्माण कार्य पूरा नही कर पा रहा है.

वर्जन-

अभी एक्सटेंशन में सड़क निर्माण का कार्य किया जा रहा है. कोशिश की जा रही है कि सड़क मार्ग पर ऐसी कोई पीर या कब्र ना हों यदि आती हैं तो संबंधित व्यक्ति से बात कर इनको हटाया जाएगा.

- डी के गुप्ता, ईएक्सईएन आवास विकास