अब शस्त्र लाइसेंस के लिए देना होगा टेस्ट

टेस्ट में पास होने पर ही मिलेगा लाइसेंस

लाइसेंस पाने के लिए काम नहीं आएगी सिफारिश

Meerut. सिफारिश व सेटिंग से शस्त्र लाइसेंस पाने वालों के लिए यह बुरी खबर है. अब शस्त्र लाइसेंस के लिए आवेदन करने वालों को पुलिस लाइन में शस्त्र चलाकर दिखाना पड़ेगा. अगर वह टेस्ट में पास होंगे तो उन्हें का शस्त्र लाइसेंस बनेगा. फेल होने वाले आवेदकों की फाइल को तुरंत ही कैंसिल कर दिया जाएगा.

क्या है योजना

मेरठ पुलिस ने शस्त्र लाइसेंस के दुरूपयोग को रोकने के लिए एक ठोस कदम उठाया है. एसएसपी अखिलेश कुमार ने बताया कि अब किसी भी शस्त्र लाइसेंस के आवेदक की फाइल पर किसी राजनीतिक पार्टी के नेताओं, प्रशासनिक अथवा पुलिस अधिकारियों की सोर्स सिफारिश नहीं चलेगी. शस्त्र लाइसेंस लेने वाले व्यक्ति को टेस्ट से गुजरना होगा.

यह होगी टेस्ट की प्रकिया

पुलिस लाइन में शस्त्र लाइसेंस पाने वाले का महीने में दो दिन टेस्ट लिया जाएगा. वहां पर उससे हथियार के बारे में सवाल भी किए जाएगे. इसके बाद जिस हथियार के लाइसेंस के लिए उसने अप्लाई किया है, वह हथियार उससे चलाकर दिखाना पड़ेगा. इसके बाद ही उसका लाइसेंस बन पाएगा. अगर वह टेस्ट में फेल होगा तो उसका लाइसेंस तुंरत ही कैंसिल कर लिया जाएगा.

इन सवालों से होगा सामना

हथियारों के बारे में क्या है जानकारी?

पहले कभी हथियार चलाया है या नहीं?

अगर चलाया है तो कौन सा हथियार चलाया है?

अब हथियार की क्या जरूरत पड़ी?

हथियार को रखने के लिए क्या सावधानी बरतनी चाहिए?

हथियार को सावधानी पूर्वक किस तरह से चलाना चाहिए?

अगर कोई हमला करे तो गोली कहां चलानी चाहिए?

इन्हें आसानी से मिल जाता है शस्त्र लाइसेंस

1. विरासत शस्त्र- जिसके परिवार में पहले से शस्त्र लाइसेंस है. उसके परिवार के अन्य सदस्य के नाम विरासत शस्त्र लाइसेंस ट्रांसफर किया जा सकता है.

2. नेशनल शूटर- अगर कोई आवेदक नेशनल शूटर है तो उसको जांच के बाद ही शस्त्र लाइसेंस दिए जा सकता है.

3. अपराध पीडि़त- जिस आवेदक के घर पर डकैती पड़ गई हो या उसकी जान को खतरा है. उस अपराध पीडि़त व्यक्ति को शस्त्र लाइसेंस दिया जा सकता है.

12 व 27 तारीख को हर माह लिया जाएगा टेस्ट

30 मिनट का होगा यह टेस्ट

20,050 शस्त्र लाइसेंस हैं जिले में

6080 पेंडिंग हैं शस्त्र लाइसेंस के आवेदन

7 दिन जांच पूरी होने के बाद बन जाता है शस्त्र लाइसेंस

2000 लाइसेंस कर रखे है फ्रीज

180 दुकाने हैं जिले में शस्त्र की

(आंकड़े अनुमानित)