छ्वन्रूस्॥श्वष्ठक्कक्त्र: टाटा स्टील एडवेंचर फाउंडेशन (टीएसएएफ) के 30 जांबाजों ने अदम्य साहस का परिचय देते हुए 19, 600 फीट ऊंची माउंट कनामो अभियान को सफलता पूर्वक पूरा किया. अभियान दल में 20 साल के युवा से लेकर 55 साल के बुजुर्ग शामिल थे.

मुश्किल था सफर

जेआरडी टाटा स्पो‌र्ट्स कांप्लेक्स में आयोजित पत्रकार सम्मेलन में अभियान दल के लीडर प्रतीम भौमिक ने बताया कि दिल्ली से मनाली तक का सफर काफी मुश्किल था. इतना मुश्किल कि माउंट कनामो की चुनौती आसान लगने लगी. उन्होंने बताया कि टीम बस से सफर कर रही थी. तभी बादल फटने से भूस्खलन हो गया और मलवा सड़क पर आ गिरा. ऐसे में वाहनों का लंबा जाम लग गया. इसके बावजूद साथियों ने हिम्मत नहीं हारी. एक दिन देर से हम मंडी पहुंचे और उसी दिन माउंट कनामो की शुरुआत करनी थी. टीम ने बेस कैंप पहुंचते ही बिना देरी किए तैयारी शुरू कर दी. साथियों ने एक-दूसरे को गुडलक कहा और चल दिया माउंट कनामो की चढ़ाई करने. ऊंचाई पर ऑक्सीजन की कमी के कारण नींद बहुत आती है. ऐसे में हम साथियों का एक ही लक्ष्य था, किसी को सोने नहीं देना.

पूनम ने भी बढ़ाया हौसला

एवरेस्ट विजेता पूनम राणा ने बताया कि सीनियर होने के नाते मैं हमेशा टीम के अन्य साथियों को प्रोत्साहित करती थी. ऑक्सीजन की कमी के कारण नींद बहुत आती है. -5 डिग्री सेल्सियस की हाड़ कंपा देने वाली ठंड में टेंट में जाकर आराम करना खतरनाक होता है. ऐसी परिस्थिति में आपको चहलकदमी करनी पड़ती है. मैंने टीम के सभी साथियों को टेंट में जाने से मना कर दिया था. सभी को जबरदस्ती पानी पिलाती रही. रात के करीब दो बजे माउंट कनामो अभियान की शुरुआत की गई, जो सुबह 10.30 बजे खत्म हुआ. इस दौरान अभियान दल के सभी साथियों ने एक-दूसरे का साथ दिया और हौसला भी बढ़ाया.

इन्होंने किया माउंट कनामो फतह

निर्भय सिंह सालर, सूरज मणि प्रसाद, दीपक गौड़ा, धीरज कुमार लाल, अर्पिता पात्रा, योगिता कुमारी, आौंद कुमार, चांदमणि, भरत मुर्मू, पंकज कुमार, शिवज्योति महापात्रा, मुनि मुंडा, सुमित्रा चातर, नरेश मुंडा, कृष्णा मुंडा, बुडाम सिंह सिद्धू. अमरनाथ योगी, अम‌र्त्य सामंता, शुभानंद मुकेश, सोनम कुमारी, जसप्रीत सिंह, पूजा कुमारी, सौरभ कुमारी, मंजीत कुमार, गाजी शमशेर अहमद, प्रमोद सिंह.