- शिक्षिका के ट्रांसफर के बाद सहकर्मी ने बनाई आईडी

- दोस्त की जानकारी पर मामला आया जानकारी में

आगरा. फेसबुक पर फर्जी आईडी बनाने के मामले में एक नर्सिग टीचर फंस गए. टीचर ने बिना बात के अपनी सहकर्मी शिक्षिका की फर्जी आईडी बना कर उनके फेसबुक पर जुड़े दोस्तों से चेटिंग शुरु कर दी. शिक्षिका को इसकी जानकारी हुई तो पुलिस कंप्लेन की. पुलिस ने जब आईडी ऑपरेट करने वाले को ढूढ़ निकाला तो शिक्षिका के होश उड़ गए चूंकि वह उसका सहकर्मी था.

साथ में पढ़ाते थे दोनों

मूल रूप से कासगंज निवासी युवती ने एमएससी के बाद नर्सिग का कोर्स किया था. इसके बाद उसकी जॉब बरेली के एक स्कूल में लग गई. वहां पर अन्य स्टाफ भी था जिसमें शिक्षक भी थे. तीन महीने पहले शिक्षिका का ट्रांसफर बरेली से लखनऊ हो गया. वहां से वह लखनऊ चली गई लेकिन इसी बीच किसी ने उसकी फर्जी फेसबुक आईडी बना ली. शिक्षिका का फोटो भी डाल दिया.

दोस्तों से होती थी चेटिंग

आईडी बनाने के बाद उसके दोस्तों से चेटिंग शुरु हो गई. शिक्षिका के दोस्तों को पता नहीं था कि कौन चेटिंग कर रहा है. आईडी ऑपरेट करने वाले ने खुद को लखनऊ के स्कूल में बताया. साथ ही वैसे ही बात की जैसे शिक्षिका अपने मित्रों से करती थी. कई दोस्तों ने उससे पर्सनल डीटेल भी शेयर की. ये सिलसिला लगातार चलने लगा.

सहेली ने दी जानकारी

लखनऊ ट्रांसफर के कुछ दिन बाद शिक्षिका आगारा हरीपर्वत निवासी अपनी दोस्त के यहां पर आई थी. यहां पर अन्य सहेलियां भी थीं. एक सहेली उससे फेसबुक पर चेट कर रही थी. आईडी पर ऑन लाइन थी लेकिन शिक्षिका उसके पास बैठी थी. उसने तुरंत शिक्षिका को दिखाया कि उसके नाम पर कोई और चेटिंग कर रहा है. देखते ही शिक्षिका का माथा घूम गया.

पुलिस ने तलाशा शातिर

नर्सिग टीचर ने मामले में पुलिस से शिकायत की. पुलिस ने मामले में पड़ताल की तो चेटिंग करने वाला पता चल गया. पुलिस ने जब शिक्षिको उसके बारे में बताया तो उसे विश्वास नहीं हुआ. चूंकि वह पहले से उसे जानती थी. टीचर ने पुलिस ने फिर से जांच करने को बोला लेकिन पुलिस ने स्पष्ट कर दिया कि वहीं सहकर्मी है जिसने फर्जी आईडी बनाई है. अब इस मामले में पुलिस मुकदमा दर्ज करने की तैयारी कर रही है.

व्हाट्सअप से ली थी फोटो

मामले में निकल कर आया कि सहकर्मी शिक्षक ने व्हाट्सअप की डीपी से शिक्षिका की फोटो ली थी. उसने वहां से कई फोटो लेकर फर्जी फेसबुक आईडी पर लगा ली जिससे उसके दोस्तों को भी विश्वास हो गया कि वहीं चेटिंग कर रही है.

पूर्व में छात्रा की बनाई थी आईडी

21 जून को थाना ताजगंज में बिहार से होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई करने आई छात्रा की फर्जी फेसबुक आईडी बनाई गई. इसके बाद दोस्तों से मैसेंजर पर बात की. इसके बाद अश्लील पोस्ट करना शुरु कर दिया. छात्रा ने पुलिस से मामले में शिकायत की.

इस तरह से बरतें सावधानी

फर्जी फेसबुक आईडी बनाने वाले अधिकतर व्हाट्सअप की डीपी से ही फोटो चोरी कर फेसबुक पर लगाते हैं. इसके लिए व्हाट्सअप पर प्रावेसी में जाकर प्रोफाइल फोटो को माय कॉन्टेक्ट कर देना चाहिए जिससे आपके मित्रों के अलावा कोई भी आपकी प्रोफाइल फोटो न देख सके.