RANCHI: पश्चिमी विक्षोभ का असर झारखंड में बन रहा है. इस वजह से गुरुवार से ही आसमान में बादल छाए हुए हैं. शुक्रवार और शनिवार को गरज के साथ हल्की बौछारें पड़ सकती हैं. क्लाउडी वेदर की वजह से रांची में टेंप्रेचर बढ़ा है. गुरुवार को शहर का अधिकतम तापमान ख्म् डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान क्ख् डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया. मौसम वैज्ञानिक डी हडाउ का कहना है कि रविवार को बादल छंटने की संभावना है, क्0 जनवरी से नॉर्थ और क्क् जनवरी से साउथ झारखंड में टेंप्रेचर डाउन हो सकता है. इस दौरान ख् से फ् डिग्री तक टेंप्रेचर डाउन हो जाएगा. मौसम वैज्ञानिक का कहना है कि फरवरी महीने तक ठंड रहेगी. जनवरी में क्भ् दिनों तक ठंड का असर सबसे ज्यादा होगा. ख्म् दिसंबर को भ्.फ् डिग्री सेल्सियस इस साल का सबसे ठंडा दिन था. उन्होंने बताया कि अभी पश्चिमी विक्षोभ का असर पूरी तरह से नहीं हुआ है, पश्चिमी विक्षोभ स्ट्रांग नहीं हो पा रहा है. पश्चिमी विक्षोभ का मुख्य केंद्र ब्लैक सी है.

टेंप्रेचर में भारी गैप, रहें सावधान

रांची के वेदर में मैक्सिमम और मिनिमम टेंप्रेचर का डिफरेंस क्ब् डिग्री सेल्सियस है. दिन में जहां गर्मी का अहसास हो रहा, वहीं रात में अचानक ठंड होने से लोगों को परेशानी हो रही है. टेंपरेचर में इस अंतर की वजह से लोग मौसमी बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं.

हॉस्पिटल में बढ़े पेशेंट

तापमान में उतार-चढ़ाव का सीधा असर लोगों की सेहत पर पड़ रहा है. दिन में गर्मी और रात को अचानक ठंड की वजह से लोग सर्दी-खांसी और बॉडी पेन जैसी कई बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं. इससे बच्चों के साथ-साथ बड़े भी परेशान हैं. रांची स्थित रिम्स और सदर में हर दिन सैकड़ों मरीज इलाज के लिए आ रहे हैं.

पूरी तरह से ठंड नहीं आई है

मौसम विज्ञानी ए वदूद ने बताया कि पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश और बिहार में बादल छाए हुए हैं. इस कारण तापमान बढ़ गया है. अब बादल छंट रहे हैं, तो तापमान में गिरावट आएगी. उन्होंने बताया कि इस साल सितंबर में बारिश नहीं के बराबर हुई है, इसलिए ठंड पूरी तरह से आई नहीं है.

तेजी से बदल रहा है रांची का मौसम

पर्यावरणविद नितीश प्रियदर्शी मानते हैं कि विश्व में तेजी से बदल रहे मौसम का असर रांची पर भी पड़ रहा है. रांची में मौसम चेंज होने के पीछे कुछ स्थानीय कारण भी हैं, इसमें बारिश का कम होना, मिट्टी में आ‌र्द्रता की कमी एक बहुत बड़ा रीजन है. मिट्टी सूख जाने की वजह से भी रांची की हवाएं आ‌र्द्र नहीं हो पा रही हैं. बारिश नहीं होने के पीछ जंगलों की बेतरतीब ढंग से कटाई और कंक्रीट के जंगलों का खड़ा होना भी है.

राजधानी में तापमान का पूर्वानुमान

शुक्रवार

मैक्सिमस ख्8 डिसे मिनिमम क्ख् डिसे

शनिवार

मैक्सिमम ख्7 डिसे मिनिमम 9

रविवार

मैक्सिमम ख्म् मिनिमम क्0

सोमवार

मैक्सिमम ख्म् मिनिमम 9

मंगलवार

मैक्सिमम ख्भ् मिनिमम क्0

बुधवार

मैक्सिमम ख्म् मिनिमम क्क्

गुरुवार

मैक्सिमम ख्7 मिनिमम क्ख्