साइक्लोन के दस्तक देते ही 4 डिग्री सेल्सियस गिर गया पटना का तापमान

shambhukant.sinha@inext.co.in

PATNA (12 Oct) : तितली साइक्लोन ने पटना पर भी अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है. शुक्रवार को राजधानी में मौसम ने पलटी मार दी. पारा 4 डिग्री सेल्सियस गिर गया. इस वजह से लोगों ने दिन में भी ठंडक महसूस की. मौसम वैज्ञानिकों का अनुमान है कि ठंड का असर और दो दिनों तक रहेगा. हालांकि, आंध्र प्रदेश और उड़ीसा के तटीय इलाकों में बर्बादी का सबक बना यह साइक्लोन बिहार के आसपास आकर कमजोर हो गया है. जो पटना सहित पूरे राज्य के लिए राहत की बात है. अगले 24 घंटे में मौसम विभाग का अनुमान है कि सामान्य से हल्की बारिश हो सकती है. जिसके बाद ठंड और बढ़ जाएगी.

कई जिले भींगे, पटना ठंडा रहा

शुक्रवार को पटना छोड़कर कई जिलो में बारिश हुई है. खासतौर पर उत्तर पूर्वी जिलों जहां करीब 20 से 25 प्रतिशत बारिश कम हुई थी, वहां साइक्लोन 'तितली' के कारण सामान्य से बेहतर बारिश हुई है. इसमें सर्वाधिक बारिश मुंगेर में हुई. जहां बीते 24 घंटे में 196 मिलीमीटर बारिश हुई है. यहां के बलतारा नामक स्थान पर 76 मिली बारिश दर्ज की गई. भागलपुर में 69.0 मिलीमीटर, पूर्णिया में 26.7 मिलीमीटर, खगडि़या में 163.8 मिलीमीटर बारिश हुई.

चार डिग्री गिरा पारा

तितली साइक्लोन के कारण पटना का अधिकतम तापमान चार डिग्री सेल्सियस तक गिर गया. शुक्रवार को पटना का अधिकतम तापमान 28.9 डिग्री व न्यूनतम तापमान 22.6 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया. यह सामान्य से एक डिग्री कम रहा. गया में अधिकतम तापमान 29.3 डिग्री रहा, जो सामान्य से तीन डिग्री कम है. सबसे अधिक तापमान में कमी भागलपुर में दर्ज की गई. यहां अधिकतम तापमान 27.0 रही जो कि सामान्य से 6 डिग्री कम रहा.

फसल को फायदा

तापमान में गिरावट, मौसम में नमी का तेजी से बढ़ना. अच्छी बारिश से रबी की फसल को राहत मिली. ठंड आने से पहले ही साइक्लोन वाली ठंड के असर हुआ गंगा के मैदानी इलाकों में.

मंद पड़ी साइक्लोन की गति

इंडिया मेट्रोलॉजिकल सोसाइटी के सेक्रेटरी डॉ पार्थ सारथी ने बताया कि तितली बीते दो-तीन दिनों से प्रभावी रहा. अब इस साइक्लोन की गति मंद पड़ गई है. शनिवार के बाद इसका असर रहने की संभावना नहीं है. जानकारी हो कि साइक्लोन की यह प्रवृति होती है, जहां भी यह प्रारंभ होता है वहां बारिश का काफी असर रहता है. बिहार इससे लाभान्वित हुआ है.

बिहार के लिए खास

तितली साइक्लोन भले ही ओडीसा, आंध्र प्रदेश के राज्यों में कहर बरपा दिया हो लेकिन बिहार में इसका आंशिक असर बारिश के तौर पर दिखना अच्छा रहा. मौसम वैज्ञानिक डॉ आनंद शंकर ने बताया कि बिहार के उत्तर पूर्वी जिले, जहां बारिश सामान्य से कम हुई थी, वहां इस चक्रवाती वर्षा से वर्षा की कमी दूर हो गई.