shambhukant.sinha@inext.co.in

PATNA : क्लाइमेट के बढ़ते असर को देखते हुए मौसम वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि वर्ष 2030 तक दुनिया के तापमान में डेढ़ डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी होगी. वहीं, पटना समेत पूरे बिहार में तापमान 2.5 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाएगा. यानी हीट वेव से पटनाइट्स को जूझना पड़ेगा. क्लाइमेट चेंज के विशेषज्ञों ने इस बात की पुष्टि करते हुए इससे होने वाले भयानक परिणाम के बारे में भी आगाह किया है. हमारे रिपोर्टर ने विशेषज्ञों से बात की तो कई चौंकाने वाली जानकारी सामने आई. विशेषज्ञों ने बताया कि 11 वर्षो में बिहार में बढ़ते तापमान के कारण जहां एक ओर बिहार जैसे खाद्य उत्पादक राज्य पर बुरा असर पड़ेगा वहीं, मलेरिया, डेंगू जैसी घातक बीमारियों का प्रकोप भी बढ़ जाएगा.

आधा डिग्री तापमान से मानव जीवन पर पड़ेगा बड़ा असर

वर्ष 1980 के बाद से धरती के तापमान में बहुत तेजी से बढ़ोतरी हुई है. वर्ष 1980 से 2000 के बीच आधा डिग्री तापमान बढ़ा है. हाल ही में इंटरगर्वनमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेंट चेंज (आईपीसीसी) के द्वारा तापमान बढ़ने के बारे में रिव्यू करने के बाद बताया कि 2030 तक तापमान में डेढ़ डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी होगी. इसमें यह भी बताया गया है कि यदि आधा डिग्री तापमान भी इस अवधि तक बढ़ता है तो यह मानव स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव डालेगा.

वर्ष 2052 में तापमान बढ़ता तो कम होता नुकसान

आईपीससी की ओर से जारी जानकारी में बताया गया है कि रिव्यू रिपोर्ट में डेढ़ डिग्री तापमान का वैश्विक रूप से बढ़ने की बात सामने आई है. इसमें सबसे बड़ी बात यह है कि यदि बढ़ा तापमान 2052 में होता तो इससे होने वाला नुकसान कम होता.