- एमजी रोड स्थित रावली आरओबी का किया जाना है निर्माण

- अगस्त के अन्तिम सप्ताह में खुलेगा टेंडर

आगरा. एमजी रोड, रावली पर जल्द ही आरओबी के दूसरी लेन का काम शुरू होगा. इसके लिए रेलवे ने टेंडर जारी कर दिया है. ये अगस्त के अंतिम सप्ताह में खुलेगा. इसके बाद आरओबी की दूसरी लेन का निर्माण शुरू किया जाएगा. गौरतलब है कि पिछले पांच से इसके निर्माण को लेकर जद्दोजहद चल रही थी. कमिश्नर के हस्तक्षेप के बाद रेलवे ने इसकी टेंडर प्रक्रिया शुरू की.

एक साइड से बनाया जा चुका है आरओबी

रावली पुल पर एक तरफ से आरओबी बनाया जा चुका है. अब दूसरी लेन का निर्माण कराया जाना है. पहले इसको सिक्सलेन बनाया जाना था. बाद में जगह की अनुपलब्धता के चलते इसको चार लेन बनाने पर सहमति बनी.

टेंडर प्रक्रिया लेट होने से बढ़ेगी लागत

रावली के दूसरी आरओबी की टेंडर प्रक्रिया लेट होने से आरओबी की दूसरी लेन की लागत में इजाफा होना निश्चित है. आरओबी के फ‌र्स्ट फेज में सेतु निगम का 373 करोड़ खर्च करने का प्रस्ताव था. इसमें सेतु निगम ने 490 करोड़ रुपये खर्च किए. बता दें, वर्ष 2013 में रावली पुल को फोरलेन बनाए जाने के लिए 1957.55 लाख का प्रपोजल तैयार किया गया. इसमें सेतु निगम को 1183.32 लाख खर्च करने थे, जबकि रेलवे को 774.23 लाख खर्च करने थे. सेतु निगम ने वर्ष 2013 में रेलवे को 774.23 लाख रुपये मुहैया करा दिए थे, लेकिन टेंडर प्रक्रिया नहीं हो सकी थी. सूत्रों की मानें तो अब जीएसटी लागू होने से बजट को रिवाइज किया जाना है. इससे बजट में इजाफा होगा.

सेतु निगम सिर्फ वॉल तैयार कराएगा

सेतु निर्माण निगम के प्रोजेक्ट मैनेजर रजनीश यादव ने बताया कि सेतु निर्माण निगम द्वारा पहले ही बजट उपलब्ध करा दिया गया है. आरओबी का निर्माण रेलवे को ही करना है. हम तो केवल दोनों ओर की वॉल तैयार करेंगे. इसके लिए पीडब्ल्यूडी को पत्र लिखा जा चुका है. ये कार्य उस समय होगा, जब आरओबी नं 157 तैयार हो जाएगा. उसके बाद ही वॉल का निर्माण कराया जाएगा.

दूसरी लेन की राह में है बड़े रोड़े

सेतु निगम के अधिकारियों की मानें तो आरओबी की दूसरी लेन बनाने में एक तो रावली मन्दिर, दूसरे वहां की दुकानें अड़चन बनी हुई हैं. बता दें, अब तक फ‌र्स्ट फेज के निर्माण के दौरान जो दुकानें तोड़ी गई थी, उस संदर्भ में अभी तक सिविल कोर्ट में मुकदमे विचाराधीन है.