1177 मरीजों के खातों में अब तक पहुंच गया पैसा

21वें नंबर पर है मेरठ जिले की स्थिति प्रदेश में

4 सितंबर से दोबारा चलेगा क्षय रोग खोज अभियान

2990 मरीजों को मेरठ में मिलना है इस योजना का लाभ

2026 मरीजों ही अभी तक आधार से लिंक हो सके हैं

10 से 14 सितंबर तक टीबी मोबाइल वैन के जरिए चलेगा अभियान

Meerut. निक्षय पोषण योजना के तहत टीबी से ग्रस्त मरीजों के खातों में हर महीने 500 रूपये पहुंचने लगे हैं. इस योजना के तहत अप्रैल 2018 से अगस्त 2018 तक मेरठ के 1177 मरीजों को इस योजना का लाभ मिल चुका है. पब्लिक फाइनेंशियल मैनेजमेंट सिस्टम के तहत पोर्टल के माध्यम से मरीजों को यह पैसा वितरित किया जा रहा है. जिला टीबी अधिकारी डॉ. एमएस फौजदार के मुताबिक सक्रिय क्षय रोग खोज अभियान के तहत 4 सितंबर से दोबारा अभियान चलाया जाएगा. निक्षय पोषण योजना के तहत सभी मरीजों को लाभ दिया जाएगा.

21वें नंबर पर मेरठ जिला

मेरठ में इस योजना के तहत 2990 मरीजों को लाभ मिलना है. जिनमें से 2026 मरीजों ही अभी तक आधार से लिंक हो सके हैं. ऐसे में जिले में 39.36 फीसदी मरीजों को ही इसका लाभ मिल पाया है. प्रदेश के 75 जिलों में से मेरठ जिला 21वें नंबर हैं. सबसे अधिक लाभांवित मरीजों की संख्या श्रावस्ती जिले की है. रजिस्टर्ड 401 में से 367 मरीजों के खाते में पैसा पहुंचा है.

चलेगी माेबाइल वैन

देश को टीबी से मुक्त करने की योजना के तहत मेरठ में 10 से 14 सितंबर तक टीबी मोबाइल वैन के जरिए व्यापक अभियान चलाया जाएगा. आरटीपीएमयू यानी रीजनल टीबी प्रोग्राम मैनेजमेंट यूनिट के तहत प्रदेशभर में पॉयलट प्रोजेक्ट के तौर पर सिर्फ चार वैन ही चलाई जाएगी. इस वैन के जरिए चिंहित जगह पर जाकर मरीजों के सैंपल लिए जाएंगे. एक दिन में 16 सैंपल का टारगेट निर्धारित किया गया है.