- हरिद्वार रेलवे स्टेशन अधीक्षक के नाम पर भेजे गए पत्र में 20 अक्टूबर और 10 नवंबर को बम धमाकों की धमकी

- एडीजी लॉ एंड ऑर्डर अशोक कुमार का दावा किसी मानसिक बीमार, शरारती तत्व का है काम

देहरादून, प्रदेश के सीएम समेत तमाम तीर्थस्थलों और रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने की धमकी मिलने से पुलिस की नींद उड़ गई है. पुलिस और इंटेलिजेंस इस धमकी के बाद अलर्ट मोड में है. मामले की तफ्तीश जारी है, एडीजी (एलएंडओ) का कहना है कि धमकी को गंभीरता से लेते हुए पुलिस जांच कर रही है.

खुद को बताया लश्करे तैयबा का एरिया कमांडर

हरिद्वार रेलवे स्टेशन अधीक्षक के नाम भेजे गए धमकी पत्र में 20 अक्टूबर और 10 नवंबर को बम धमाके करने की बात कही गई है. धमकी देने वाले ने खुद को आतंकी संगठन लश्करे तैयबा का जम्मू कश्मीर एरिया कमांडर मौलवी अंबी सलीम बताया है. पत्र मिलने के बाद पुलिस, जीआरपी, इंटेलिजेंस और सिक्योरिटी एजेंसियां अलर्ट हो गई हैं. चिट्ठी की प्रमाणिकता की जांच शुरू कर दी गई है.

दर्जनों रेलवे स्टेशन उड़ाने की धमकी

हरिद्वार रेलवे स्टेशन अधीक्षक महावीर सिंह के नाम पर भेजे गए पत्र में 20 अक्टूबर को हरिद्वार सहित देहरादून, रुड़की, लक्सर, काठगोदाम रेलवे स्टेशन और यूपी में रामपुर, मुरादाबाद, बरेली, अलीगढ़, सहारनपुर, मेरठ, मुजफ्फरनगर के रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने की धमकी दी गई है. पत्र में लिखा है कि 10 नवंबर को हर की पैड़ी हरिद्वार, लक्ष्मण झूला, चारों धाम और रुड़की की धार्मिक मजार को बम से उड़ा दिया जाएगा. उत्तराखंड को खून से रंगने की धमकी दी गई है.

चिट्ठी की सच्चाई की तफ्तीश

पत्र के आखिर में लश्कर, हाफिज सईद और पाकिस्तान ¨जदाबाद लिखा गया है. पिछले तमाम धमकी भरे पत्रों की तरह अधिकारी शुरुआती तौर पर इसे संदिग्ध और शरारती तत्व का कारनामा मान रहे हैं, लेकिन एहतियात के तौर पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है. खुफिया विभाग चिट्ठी भेजने वाले का पता लगाने में जुट गया है.

--------------

हरिद्वार रेलवे स्टेशन अधीक्षक के नाम भेजे गए पत्र में सीएम समेत तमाम धार्मिक स्थलों और रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने की धमकी दी गई है. ऐसे पत्र पहले भी आ चुके हैं. यह किसी शरारती तत्व का काम भी हो सकता है. फिर भी एहतियात के तौर पर सभी अलर्ट हैं.

अशोक कुमार, एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर)