शिक्षक दिवस पर राज्य पुरस्कार से सम्मानित होंगे मेरठ के दो शिक्षक

कौसर जहां और देविंदर कुमार को लखनऊ में सम्मानित करेंगे सीएम योगी

Meerut. प्रतिभाएं संसाधनों की मोहताज नहीं होती हैं, कुछ शिक्षक ऐसे हैं जो कम संसाधनों में भी बच्चों के बेहतर भविष्य निर्माण में जुटे हैं. कृषक इंटर कॉलेज, मवाना के प्रिंसिपल देविंदर और प्राथमिक विद्यालय फफूड़ा की हेड कौसर जहां ऐसे ही दो शिक्षक हैं जिन्होंने साबित कर दिया कि अगर इच्छा हो तो कमजोर सरकारी तंत्र बच्चों के विकास में बाधा नहीं बन सकता है. प्रदेश में मेरठ का नाम रोशन करने वाले इन शिक्षकों को बुधवार को लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राज्य शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित करेंगे.

'बच्चों को बनाना है अात्मनिर्भर'

बेसिक शिक्षा विभाग के प्राथमिक स्कूल फंफूड़ा की प्रधानाध्यापिका कौसर जहां ने आदर्श विद्यालय बनाकर मिसाल कायम की है, कौसर जहां कहतीं है कि बच्चों को आत्मनिर्भर बनाना ही उनका मेन मोटिव हैं. दर्शन शास्त्र में एमए और पीएचडी होल्डर कौसर को इस स्कूल में 2014 में नियुक्ति मिली थी. इसके पूर्व उन्हें मलाला युसुफजई अवार्ड 2015, विद्यालय पुरस्कार 2016, कर्मशील नारी अवार्ड 2015 मिल चुका है.

'समाज को शिक्षित करने की चाह'

कृषक इंटर कॉलेज मवाना के प्रिंसिपल देविंदर कुमार के लिए यह पुरस्कार उनके गुरुओं को समर्पित हैं. देविंदर बताते हैं कि बच्चों को शिक्षित कर ही समाज को बेहतर बनाया जा सकता है. उन्होंने स्कूल में बच्चों के विकास के लिए अपने स्तर से ही कई प्रयास किए . नवाचार, स्मार्ट क्लासेज, एक्स्ट्रा क्लास, स्पोटर्स की बेहतर सुविधाएं स्कूल में बच्चों को प्रदान की. देविंदर कुमार को पहली बार उनके योगदान के लिए सम्मानित किया जाएगा.