-धुंध में नहीं दिखेगा ब्रिज तो जहाजों के टकराने का बना रहेगा खतरा

-ओवर ब्रिज से केवल तीन किलोमीटर है एयरपोर्ट के रनवे की दूरी

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: कुंभ मेला 2019 के दौरान इलाहाबाद एयरपोर्ट को देश के विभिन्न शहरों से जोड़ने की तैयारी है. चार महानगरों के लिए हवाई सेवा शुरू हो गई है. दस शहरों के लिए जल्द ही फ्लाइट की तैयारी है. लेकिन यदि बेगम बाजार आरओबी बन गया तो लैंडिंग और टेक ऑफ के दौरान खतरे की संभावना बनी रहेगी.

सिर्फ 500 मीटर की दूरी खतरनाक

सूत्रों की मानें तो बेगम बाजार आरओबी का निर्माण जहां चल रहा है, वह इलाहाबाद एयरपोर्ट के रन-वे से केवल 500 मीटर की दूरी पर स्थित है. इसकी वजह से फ्लाइट की लैंडिंग और टेक ऑफ के दौरान खतरे की संभावना बनी रहेगी. आरओबी निर्माण नेशनल सिक्योरिटी के साथ ही सिविल एयर ट्रैफिक के लिए भी खतरा है.

रिपोर्ट में यह भी है उल्लेख

डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन के साथ ही इंटरनेशनल सिविल एविएशन ऑर्गेनाइजेशन की गाइड लाइन के अनुसार रन वे से 500 मीटर की दूरी पर कोई भी निर्माण नहीं हो सकता है.

दिसंबर से जनवरी तक कोहरा

सेना की रिपोर्ट में कहा गया है कि दिसंबर से जनवरी तक धुंध और कोहरे का असर होता है. इस दौरान कुंभ मेला का भी आयोजन है, इसके तहत 13 शहरों के लिए फ्लाइट की तैयारी है. दिन में ही नहीं बल्कि रात में भी फ्लाइट की लैंडिंग होगी. इस दौरान धुंध की वजह से यदि ब्रिज नहीं दिखा तो अंजाम खतरनाक हो सकता है.

इन शहरों के लिए फ्लाइट शुरू

लखनऊ, पटना, इंदौर, नागपुर

कुंभ से पहले उड़ेगी फ्लाइट

बंगलुरू, भोपाल, भुवनेश्वर, देहरादून, गोरखपुर, कोलकाता, मुंबई, दिल्ली, पुणे और रायपुर

वर्जन

बेगम बाजार आरओबी निर्माण को लेकर जो भी समस्या व आपत्ति है, मिल बैठ कर उसे हल किया जाएगा. कोई ऐसा काम नहीं होगा, जिससे सेना की गतिविधि और कुंभ मेले में आने वाले तीर्थ यात्रियों की सुरक्षा को कोई खतरा हो. केंद्र और प्रदेश में भाजपा की ही सरकार है, इसलिए जल्द ही हाईलेवल की मीटिंग में निर्णय लिया जाएगा.

-नंद गोपाल गुप्ता 'नंदी'

नागरिक उड्डयन मंत्री

उत्तर प्रदेश सरकार

सेतु निगम और रेलवे मिलकर आरओबी का निर्माण करा रहे हैं. सेतु निगम का काम पूरा हो चुका है. रेलवे द्वारा गार्डर लांचिंग की तैयारी है, लेकिन अब एनओसी होने पर ही काम कराने की बात कही गई है. एनओसी के लिए गवर्नमेंट द्वारा अप्लाई किया गया है. इससे ज्यादा की जानकारी हमें नहीं है.

-अमिताभ

डीआरएम, इलाहाबाद