3209 लाख रुपये से अधिक का बकाया है बिजली विभाग का

31 मई तक बकाएदारों के कनेक्शन काटेगा बिजली विभाग

900 बड़े बकायेदार आरएपीडीआरपी खंडों में मेरठ क्षेत्र में

1952.17 लाख बकाया आरएपीडीआरपी खंडों के बकाएदारों पर मेरठ क्षेत्र में

1100 बड़े बकायेदार नॉन आरएपीडीआरपी खंडों में मेरठ क्षेत्र में

1952.14 लाख का बकाया नॉन आरएपीडीआरपी खंडों के बकायेदारों पर मेरठ क्षेत्र में

5205 बड़े बकायेदारों पर 7673.29 लाख का बकाया आरएपीडीआरपी खंडों में

6928 बड़े बकायेदार जिन पर 15923.83 लाख का बकाया नॉन आरएपीडीआरपी खंडों में

MEERUT। राजस्व में वृद्धि और कन्ज्यूमर टर्नओवर बढ़ाने के उद्देश्य से बिजली विभाग अब अपने बड़े बकाएदारों की बिजली गुल करने में जुटा है। इसके लिए विभाग की ओर से 25 मई से 31 मई तक विशेष अभियान चलाकर बिजली कनेक्शन काटे जा रहे हैं। दो हजार से अधिक बकाएदारों पर विभाग का करीब 3209 लाख रुपए बकाया है।

क्या है आरएपी डीआरपी

आरएपीडीआरपी यानि री कंस्ट्रक्शन एक्सीलीरेटेड पावर डेवलपमेंट रिफामर्स योजना के तहत विभाग दो भागों में काम करता है। इसमें एक है बिजली व्यवस्था को पूरी तरह ऑनलाइन करना, दूसरा लोड और आबादी के हिसाब से प्रत्येक कॉलोनी या वार्ड में ट्रांसफार्मर लगाना, पोलों की संख्या बढ़ाना और शत प्रतिशत मीटर लगाना शामिल है।

प्रमुख सचिव की ओर से समीक्षा बैठक में यह निर्णय लिया गया है कि इन सभी बड़े बकायेदारों के कनेक्शन काटे जाएं। इसके बाद भी यदि कनेक्शन चलता हुआ पाया गया तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

आशुतोष निरंजन, एमडी पॉवर