अब रीडिंग में किसी भी स्तर से गड़बड़ी नहीं कर सकेंगे मीटर रीडर

मीटर रीडर को फोटो खींचकर वेबसाइट पर करना होगा अपलोड

उस रीडिंग के आधार पर बनाया जाएगा उपभोक्ताओं का बिल

MEERUT । मीटर रीडर की उपभोक्ताओं से जान पहचान और मिलीभगत पर लगाम लगाने के लिए विद्युत विभाग जल्द मीटर रीडिंग की नई पारदर्शी व्यवस्था लागू करने जा रही है। इस व्यवस्था के तहत अब मीटर रीडर उपभोक्ता के घर रीडिंग के समय रियल टाइम फोटो मोबाइल से खींच कर पीवीवीएनएल की वेबसाइट पर अपलोड करेगा। उस रीडिंग के आधार उपभोक्ताओं का बिल जेनरेट होगा।

खत्म होगी गलती की गुंजाइश

अभी तक की व्यवस्था में मीटर रीडर उपभोक्ता के घर जाकर विद्युत मीटर की रीडिंग मशीन में फीड कर बिल जेनरेट कर देता था। इसमें कई बार गलती होने की संभावना के चलते उपभोक्ता समेत विभाग को नुकसान उठाना पड़ता था। कई बार उपभोक्ताओं की शिकायत रहती थी कि मीटर रीडर ने अधिक रीडिंग का बिल बनाया है। वहीं कई उपभोक्ता से मिलीभगत के चलते जानबूझकर रीडर कम रीडिंग का बिल बना देता था। अब इस नई व्यवस्था से गलती की गुंजाइश पूरी तरह खत्म हो जाएगी।

सर्वर पर बतौर रिकार्ड रहेगा फोटो

रीडर बिल जेनरेट करने के लिए निर्धारित समय पर उपभोक्ता के घर जाकर रियल टाइम फोटो मोबाइल से लेगा और पीवीवीएनल की वेबसाइट पर अपलोड करके रिकार्ड मेनटेन करेगा। इस फोटो का उपयोग उस समय किया जाएगा जब उपभोक्ता या विभाग की तरफ से किसी प्रकार की गड़बड़ की सूचना मिलेगी।

टाइमिंग की भी होगी जांच

मीटर रीडर द्वारा अपलोडेड फोटो और जेनरेट बिल की टाइमिंग का विशेष महत्व रहेगा। विभाग इस प्रक्रिया को पूरी तरह पारदर्शी बनाना चाहता है इसलिए जिस समय विद्युत बिल रीडिंग के आधार पर जेनरेट होगा उसी समय के आसपास का मीटर का फोटो भी वेबसाइट पर अपलोड होगा। यदि समय अन्तराल अधिक हुआ तो मीटर रीडर से जवाब तलब होगा।

खराब मीटरों का भी फोटो अपडेट

इस व्यवस्था के तहत मीटर रीडर विद्युत मीटर खराब होने की स्थिति में खराब मीटर की भी रियल टाइम फोटो लेगा और संबंधित विद्युत घर में सूचित करेगा। गत माह विद्युत विभाग के क्लीनिंग अप अभियान के दौरान करीब 5181 खराब मीटर मिले थे उनको विद्युत विभाग टीम द्वारा मौके पर बदला गया। तब यह बात सामने आई थी कि मीटर रीडर और उपभोक्ता दोनो द्वारा यह जानकारी विभाग को नही दी गई। ऐसे में अब यदि उपभोक्ता द्वारा खराब मीटर की तुरंत शिकायत दर्ज नही कराई गई और उपभोक्ता खराब मीटर बदलवाने के बजाए उपभोक्ता बिजली का उपयोग करते हुए पकड़े गए तो विभाग द्वारा जुर्माना वसूल जाएगा।

इस योजना पर काफी समय से काम चल रहा है इसके लिए मुख्यालय स्तर पर रीडिंग लेने वाले कर्मचारियों को जानकारी भी दी जाएगी।

- संजीव राणा, एस ई