तीन गैंग के गुर्गो पर पुलिस ने गड़ाई नजर

पूछताछ के लिए कई लोगों को हिरासत में लिया

फिलहाल किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंची पुलिस

Meerut. मोहनपुरी में इंजीनियर के घर दिनदहाड़े डकैती के मामले में पुलिस ने शहर के 10-15 गैंग खंगाले हैं तथा कई लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की है. एसएसपी अखिलेश कुमार का कहना है कि डकैती की घटना में ईरानी या किसी अन्य गैंग के शामिल होने की संभावना है. छानबीन में सामने आ रहा है कि पढ़े लिखे बदमाशों ने घटना को अंजाम दिया है.

यह था मामला

बुधवार को मोहनपुरी में सात से आठ बदमाशों ने सिंचाई विभाग के रिटायर्ड जेई श्रीप्रकाश गोयल व उनके किराएदार डीएम कार्यालय में सहायक राकेश गुप्ता के घर पर डकैती डाल दी थी. घर में परिवार के सदस्यों को बंधक बनाकर लाखों के जेवर व नकदी लूट कर ले गए थे. जबकि उनके घर के सामने सीओ सिविल लाइन का आफिस भी है. इसके बाद भी बदमाशों ने डकैती की घटना को अंजाम दिया था.

जेई के घर पहुंचे कैंट विधायक

कैंट विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल रिटायर्ड जेई श्रीप्रकाश गोयल के घर मोहनपुरी पहुंचे. वहां पर उनके परिजनों से घटनाक्रम के बारे में जानकारी हासिल की. इसके बाद पुलिस को जल्द से जल्द घटना के खुलासे के लिए कहा. इस अवसर पर सरदार दलजीत सिंह, विजय आंनद समेत काफी व्यापारी नेता भी मौजूद रहे.

120 बदमाशों के गैंग

501 -गैंग मेंबर

5 - इंटर स्टेट

15 - इंटर डिस्ट्रिक

100 - डिस्ट्रिक

15 - गैंग हत्या के

25- डकैती के

40 - चोरी व लूट

20 - वाहन लूट

कालोनी में कभी ऐसी कोई वारदात नहीं हुई है. बदमाशों ने पहले उनकी फैक्ट्री से रेकी की है. इसके बाद घटना को अंजाम दिया है.

अशोक शास्त्री, मोहनपुरी

सीओ आफिस को बने अभी तीन साल भी नहीं हुए हैं. इससे पहले कालोनी में लोग रहते हैं. कालोनी में किसी जान पहचान के लोगों ने घटना को अंजाम दिया है.

संजय कुमार, मोहनपुरी

सिविल लाइन पुलिस कालोनी में गश्त नहीं करती है. यहां पर पहले भी एक व्यापारी को गोली मारकर लूट हो चुकी है. इसके बाद भी पुलिस ने कालोनी में सुरक्षा नहीं बढ़ाई.

लोकेश अग्रवाल, मोहनपुरी

शाम ढलते ही यहां पर संदिग्ध लोगों का आना जाना शुरू हो जाता है. पुलिस अगर चेकिंग करती तो डकैती डालने वाले बदमाश पकड़े जाते.

संदीप सैनी, मोहनपुरी