टैंपो-टैक्सी चालकों को प्रशासन ने दी राहत, आज से बंद होना था संचालन

दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने बताई थी जमीनी हकीकत, हजारों परिवार हो जाते भुखमरी के शिकार

हजारों वाहनों के बंद होने से खड़ा हो जाता पब्लिक ट्रांसपोर्ट का संकट

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: परेशान होने की जरूरत नही. आज आराम से घर से निकलिए, क्योंकि आटो, टैंपो-टैक्सी पर बैन नही लग रहा है. आसानी से सवारी मिल जाएगी. पब्लिक की परेशानी को देखते हुए प्रशासन ने फिलहाल वाहन चालकों को राहत दे दी है. हालांकि, जल्द ही डीजल चालित वाहनों की जगह सीएनजी वाहनों का संचालन किया जाएगा. इसके लिए कमिश्नर डॉ. आशीष कुमार गोयल ने पुन: टाइम लाइन फिक्स कर दी है. जिस पर कड़ाई से पालन के निर्देश दिए गए हैं.

किसको मिला कितना समय

बता दें कि बीस जून से शहर में डीजल चालित टैंपो-टैक्सी पर बैन लगना था. लेकिन, आरटीए की बैठक में पब्लिक की परेशानी को देखते हुए कमिश्नर ने अलग-अलग सीरीज के वाहनों को सीएनजी में बदलने की टाइम लिमिट बढ़ा दी है. उन्होंने कहा कि एटी-बीटी सीरीज के डीजल चालित आटो-विक्रम 20 जुलाई तक चलेंगे लेकिन उन्हे तीस जून तक सीएनजी वाहनों की बुकिंग करानी होगी. इसी प्रकार सीटी-डीटी सीरीज के डीजल वाहन बीस अगस्त तक चल सकेंगे और उन्हें बीस जुलाई तक सीएनजी बुकिंग करानी होगी. ईटी-एफटी सीरीज के वाहन 19 सितंबर तक चल सकेंगे और उन्हें बीस जुलाई तक सीएनजी बुकिंग करानी होगी.

यह भी हुए फैसले

डीजल से चलने वाली स्कूल बसों को बीस जुलाई तक छूट दी गई है और इन्हे 30 जून तक सीएनजी बुक कराना होगा.

सिटी बसों को सीएनजी चालित बनाने के लिए तीन माह का समय दिया गया है.

अडानी गैस को दिए जरूरी निर्देश

फिलहाल शहर में तीन सीएनजी पंप हैं और इनसे पांच हजार टैपों-विक्रम को गैस उपलब्ध कराना आसान नही होगा. कमिश्नर ने अडानी गैस के अधिकारियों को निर्देश दिया कि निर्धारित समय सीमा में सीएनजी की आपूर्ति सुनिश्चित करें. इस पर अडानी गैस ने उन्हें आश्वस्त किया. बैठक में प्रभारी डीएम सैमुअल पाल एन, आटो विक्रम यूनियन के अध्यक्ष विनोद दुबे, महामंत्री रमाकांत रावत समेत अन्य अधिकारी व पदाधिकारी उपस्थित रहे.

हमने दिखाया था आईना

दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने इस मामले में लगातार खबरें प्रकाशित कर प्रशासन को सच्चाई से अवगत कराया. हमने बताया कि मार्केट में यूरो फोर सीएनजी वाहन उपलब्ध नही होने से अचानक पांच हजार टैंपो-टैक्सी बंद कर देने से जहां पब्लिक ट्रांसपोर्ट का संकट पैदा हो जाएगा वहीं रोजगार पर आश्रित हजारों परिवार भुखमरी के शिकार हो जाएंगे. क्योंकि, डीजल चालित कई वाहन अभी भी बैंक लोन पर हैं और इनकी किस्त पूरी होने से पहले चालक सीएनजी वाहन नही खरीद पाएंगे. बैठक में कमिश्नर ने बुकिंग की रसीद आरटीओ को उपलब्ध कराने और डीलर्स को जल्द सीएनजी युक्त वाहन उपलब्ध कराने के आदेश दिए.