ब्रिटिश महिलाओं पर किया गया अध्‍यान
डर्मेटोलॉजी पर हाल ही में प्रकाशित एक लेख में लिख गया था कि 6495 ब्रिटशि महिलाओं के ऊपर गंध आने का कारण पता लगाने का अध्‍यन किया गया। जबाव में पाया गया कि आप के शरीर में एक जीन ऐसा होता है जो शरीर की गंध को बाहर फेकता है। जिसके कारण सभी बाह्य कारकों से हलकी गंध आती है।  अगर आप गंध की पूर्व श्रेणी में आते हैं तो आप इसमें ज्‍यादा कुछ नहीं कर सकते हैं। यह आप के कान की गंध को भी प्रभावित करती है।

यह जीन बताता है गंध का उत्‍पादन करना है या नहीं

जिन ब्रिटिश महिलाओं पर यह प्रयोग किया गया उनमे से दो प्रतिभागियों में दो प्रतिशत ABCC11 जीन का एक रूप था। जिसका अर्थ है कि वे शरीर की गंध से प्रभावित नहीं होते हैं। स्‍टडी के को-आर्थर और जैनेटिक इपिडिमोलॉजिस्‍ट इयान डे ने ब्रिशटोल की यूनिवर्सिटी में लाइव साइंस में बताया कि यह एक प्रक्रिया होती है कि आप की आर्मपिट गंध का उत्‍पादन करती हैं या नहीं। जिसे लेकर दुनिया के कुछ भागों में व्‍यापक्‍ता है।

सभी पूर्वी एशियन और कोरियन में पाया जाता है यह जीन

यूरोप के लोगों के लिए यह बुरी खबर है कि वहां सिर्फ 2 प्रतशित लोग ही ऐसे बचे हैं जो इस गंध से दूर हैं। डे ने बताया कि सभी ईस्‍ट एशियन और कोरियन में यही जीन पाया जाता है। एंटीप्रेसप्रिंट पर पिटाई करना हमारी दिनचर्या में शामिल है लेकिन हम अध्ययन के निष्कर्षों के आधार पर इस पर पुनर्विचार कर सकते हैं। लिन लोगों के ABCC11 जीन ले जाने के लिए वे अपने पैसे खर्च कर रहे हैं। कुछ मामलों में उनकी त्वचा के लिए अच्छा नहीं हो सकता है क्या करने के लिए अपनी त्वचा को वह उजागर करें यह उन्‍हें बता दिया गया है।

यह जीन बताता है कि गंध का निर्माण होगा
इतना ही नहीं ABCC11 जीन की उपस्थिति हुक्म है कि हम शरीर की गंध को बाहर नहीं फेंकना हैं। यह भी स्थिरता है और यह हमारे कान की गंध पैदा करती है। अगर आप के कान से कुछ चिपचिपा पदार्थ निकलता है तो यह अच्‍छा है। जिससे यह साबित होता है कि आपकी आर्मपिट वह केमिकल बना रही हैं जो आर्मपिट में गंध के आदेश का आर्डर करता है। लेकिन अगर आप का कान सूखा हुआ है तो यह एक अच्छा संकेत है कि आप को 'बदबूदार जीन' की जरूरत नहीं है।

inextlive from News Desk