1 लाख फीट से ज्‍यादा ऊँचाई से दिखेगा धरती और स्‍पेस का अनोखा नजारा
कानपुर। अमेरिका के एरिजोना राज्‍य की एक कंपनी 'वर्ल्ड व्यू इंटरप्राइजेज' ने आम लोगों को धरती से अंतरिक्ष के टच पॉइंट तक की सैर कराने का अनोखा और खास इंतजाम किया है। सीएनएन की रिपोर्ट बताती है कि अंतरिक्ष तक की इस सैर के लिए किसी रॉकेट का नहीं बल्कि गुब्बारों का इस्तेमाल किया जाएगा। बता दें कि यह कंपनी खास तरह कि हाई एल्‍टीट्यूड गुब्‍बारों में हीलियम गैस भरकर इंसानों को स्‍पेस के टच प्‍वाइंट यानि 1 लाख फीट से अधिक की ऊँचाई पर ले जाएगी। जहां से धरती और अंतरिक्ष का मिलाजुला कमाल का नजारा दिखाई देगा। कंपनी के मुताबिक किसी रॉकेट की तुलना में इन गुब्बारों में बैठकर अंतरिक्ष तक यह सफर काफी मजेदार और सुकून वाला होगा, जबकि रॉकेट से अंतरिक्ष के सफर में यात्रियों को जबरदस्‍त शोर और वाइब्रेशन सहना पड़ता है।

 

अब तक 50 बार ये बलून कर चुके हैं अंतरिक्ष तक का सफर
डेलीमेल ने बताया है कि पिछले साल ही यह कंपनी अंतरिक्ष के टच प्‍वादइंट यानी स्‍ट्रेटोस्‍फेयर तक अपनी 50 उड़ानें कर चुकी है। शुरुआती प्रमोशन के तौर पर इस कंपनी ने पिछले साल जून में KFC का एक जिंजर चिकन सैंडविच भी गुब्बारे की मदद से अंतरिक्ष तक भेजा था। अंतरिक्ष की सैर के इस नए और अनोखे तरीके में खास तरह के हाई एल्टीट्यूड बलून का इस्तेमाल किया जाएगा। जिनमें साधारण हॉट एयर नहीं भरी जाएगी बल्कि इनमें हीलियम या हाइड्रोजन गैस भरी जाएगी। जो उस गुब्‍बारे और उसके यात्रियों को चौंकाने वाली इस ऊंचाई तक ले जाएगी।

इंसानों को उस ऊँचाई तक ले जाने को बनाया खास तरह का सेफ कैप्‍सूल
'वर्ल्ड व्यू इंटरप्राइजेज' कंपनी ने इंसानो को अंतरिक्ष तक के उस सफर में ले जाने के लिए एक खास तरह का कैप्सूल विकसित किया है। जिसमें चारों तरफ खिड़कियां लगी होंगी। भले ही इस कैप्सूल में बैठकर लोग वास्तव में अंतरिक्ष में नहीं जाएंगे लेकिन अंतरिक्ष के टच पॉइंट से धरती का कैसा अनोखा नजारा दिखाई देता है यह बात वो जरूर महसूस कर पाएंगे।

 

बलून में बैठकर स्‍पेस तक के इस टूर मे आएगा बहुत खर्जा
बलून में बैठकर अंतरिक्ष तक की सैर करने की बात सुनकर अगर आप में भी इसकी इच्‍छा जाग रही है, तो जान लीजिए कि फिलहाल इस स्पेस टूर की कीमत बहुत ज्यादा है। शुरुआती तौर पर कंपनी ने एक बलून राइड की कीमत रखी है 75 हजार डॉलर। अंतरिक्ष तक के इस अनोखे सफर को लेकर गूगल के कंप्यूटर साइंटिस्ट एलेन एस्‍टेस ने ब्लूमबर्ग को बताया है कि किसी रॉकेट द्वारा अंतरिक्ष में जाने की तुलना में यह बलून राइड काफी आसान और मजेदार होगी।

स्मार्टफोन का रेडिएशन दे सकता है मेमोरी लॉस की प्रॉब्लम! राइट हैंडेड यूजर्स हैं सबसे ज्‍यादा मुसीबत में

व्‍हाट्सएप पर फेक न्‍यूज को पहचानना अब होगा सबसे आसान, भारत में बन रहा यह नया मोबाइल टूल

कार के बाद स्मार्टफोन के लिए भी आ गए एयरबैग, जो उसे टूटने नहीं देंगे

International News inextlive from World News Desk