मंदिरों में सजावट का दौर शुरू
धर्मनगरी में कृष्ण जन्मोत्सव की तैयारियां जोरों पर हैं. 28 अगस्त को कृष्ण जन्माष्टमी के लिए विभिन्न आश्रमों और मंदिरों में सजावट का दौर शुरू हो गया है. बाजारों में भी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की खासी तैयारियां हो रहीं हैं. धर्मनगरी के विभिन्न बाजारों में इन दिनों श्रीकृष्ण विभिन्न रूपों के परिधान को खरीदने के लिए खरीदारों की भीड़ लग गई है.

लड्डू गोपाल के परिधानों की विशेष मांग
गुजरात में प्रसिद्ध कृष्ण रूप लड्डू गोपाल के परिधानों की बाजारों में विशेष मांग है. इस वर्ष 28 अगस्त को कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष अष्टमी-रोहिणी-बुधवार का योग पड़ रहा है. पुराणों और ग्रंथों में वर्णन है कि इसी योग में श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था. ऐसे में धर्मनगरी में वैष्णव और स्मार्त परंपरा के लोग एक साथ कृष्ण जन्माष्टमी का उत्सव मनाएंगे. इसके लिए मंदिरों और आश्रमों से लेकर बाजारों में भी तैयारियां चरम पर हैं. बात केवल बाजारों की तैयारियों की करें तो हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी बड़ा बाजार, अपर रोड मार्केट, हरकी पैड़ी बाजार, कनखल का कृष्णा मार्केट, ज्वालापुर का कटहरा बाजार, चौक बाजार, न्यू हरिद्वार और पुराना हरिद्वार के सभी बाजारों में तैयारियां सप्ताह भर पहले से ही शुरू हो गई हैं.

स्‍कूली बच्‍चों की बाजार में चहल-कदमी
बाजारों में इन दिनों भगवान श्रीकृष्ण की साज सज्जा से लेकर बालक रूप के उनके परिधानों की भी खूब मांग है. गुजरात में प्रसिद्ध कृष्ण रूप लड्डू गोपाल के परिधानों से बड़ा बाजार और हरकी पैड़ी क्षेत्र के बाजार सजे हुए हैं. जहां पर खरीदारों की अच्छी भीड़ देखी जा सकती है. कृष्ण को प्रिय मयूर पंख और मुरली की भी स्कूली बच्चों में खासी मांग है. वहीं स्कूलों में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों के लिए राधा कृष्ण के परिधान खरीदने के लिए बड़ी मात्र में स्कूली बच्चों की बाजारों में चहल कदमी देखी जा रही है.

National News inextlive from India News Desk