क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : धुर्वा के ऑर्टिजन हॉस्टल नंबर-तीन के पास रविवार रात हुई फायरिंग मामले में पुलिस ने तीन युवकों को हिरासत में लिया है. इनमें प्रिंस उर्फ लाली के अलावा जेपी मार्केट धुर्वा का मुकेश सिंह और धुर्वा वाटर फिल्टर रोड निवासी विश्वनाथ प्रताप सिंह शामिल है. तीनों से पुलिस पूछताछ कर रही है.

क्या था मामला

रविवार को एचईसी की सिक्योरिटी एजेंसी जी फोर सिक्योर सॉल्यूशन इंडिया के बैरक को टारगेट कर गोलियां चलाई गई थी. कंपनी के गा‌र्ड्स ने तुरंत इसकी सूचना धुर्वा पुलिस को दी थी. इसके बाद पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए गोलीबारी करने वाले तीनों युवकों को दबोच लिया. मालूम हो कि फायरिंग के बाबत सिक्योरिटी एजेंसी के ऑपरेशन हेड संजीत कुमार सिंह ने धुर्वा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी.

दुकान तोड़े जाने पर दी थी धमकी

एचईसी मैनेजमेंट के निर्देश पर सिक्योरिटी एजेंसी के गा‌र्ड्स धुर्वा के जेपी मार्केट में अवैध रूप से चल रहे दो दुकानों को तोड़ने के लिए पिछले दिनों गए थे. यहां उन्हें अंजाम भुगतने की धमकी दी गई थी. ऐसे में आशंका यही जाहिर की जा रही है कि इन्हीं दुकानों को तोड़े जाने को लेकर ही एचईसी की सिक्योरिटी का जिम्मा संभाल रही एजेंसी के दफ्तर पर फायरिंग की गई.

तड़ीपार था प्रिंस, हाल में निकला है जेल से

अपराधी प्रिंस उर्फ लाली के खिलाफ रांची पुलिस ने जिला बदर की कार्रवाई की थी. उसने धुर्वा के पार्षद रत्‍‌नेश की हत्या के आरोप में पिछले साल पांच अक्टूबर को नगड़ी से गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था. हाल ही में वह जमानत पर जेल से रिहा हुआ है. इससे पहले भी कई बार जेल जा चुका है. इसके अलावा गिरफ्तार किए गए मुकेश और विश्वनाथ का भी आपराधिक रिकॉर्ड रहा है. इन दोनों के खिलाफ थानों में हत्या, चोरी व लूट के मामले दर्ज हैं.