-कुख्यात विक्की को भगाने से पहले ही दबोच लिए गए 13 अपराधी

श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्कन्ञ्जहृन्: पुलिस टीम पर बड़ा हमला कर अपराधी को छुड़ाने की योजना को नाकाम कर दिया गया है. पुलिस ने दावा किया है कि पुलिसकर्मियों की हत्या कर उनकी कस्टडी से जेल में बंद अपराधी को छुड़ाने की प्लानिंग पूरी तरह से तैयार थी, बदमाश मौके की तलाश में लगे थे. इससे पहले ही पुलिस ने 13 अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया. बम और हथियार से लैश बदमाश चड्डा गैंग के हैं, पुलिस इनकी जड़ को खंगालने में जुटी है.

गैंग का सरगना गिरफ्तार

पुलिस ने बदमाशों की पूरी प्लांनिग नाकाम किया है उसका पूरा नेटवर्क अब सामने आ जाएगा. गैंग का सरगना शुभम कुमार उर्फ चढ्डा को पुलिस ने साथियों के साथ न दबोचा होता तो वह कोई न कोई बड़ी घटना हो जाती. एसएसपी मनु महाराज ने शनिवार को दावा किया है कि बहुत जल्द इस गैंग का पूरा नेटवर्क सामने आ जाएगा.

गैंग के मेम्बर को छुड़ाना था

एसएसपी ने बताया की मखना गैंग का राइट हैंड विक्की उर्फ विवेक हत्या के मामलों में बेउर जेल में बंद है. केस की सुनवाई के दौरान दानापुर कोर्ट में इसकी पेशी होने वाली थी. इस दौरान ही अपराधी पुलिसवालों पर हमला कर उसे छुड़ाने वाले थे. इसके लिए अपराधियों ने 10 बम और 10 पिस्टल अरेंज किया था.

पहला प्लान फेल तो दूसरी बार करने वाले थे अटैक

पुलिस के अनुसार 28 अगस्त को ही ये अपराधी अपनी प्लानिंग को अंजाम देने वाले थे, लेकिन सफल नहीं हो पाए. इसके बाद अगली तारीख का इंतजार कर रहे थे. लेकिन इसके पहले ही पुलिस टीम ने कुख्यात शुभम उर्फ चढ्डा, राहुल कुमार, धमर्ेंद्र कुमार, राहुल राज, सूरज प्रकाश, आकाश कुमार, लक्की कुमार, ब?लू कुमार, राधेश्याम कुमार, प्रिंस कुमार, प्रेम किरण मल्लिक, अनीश कुमार और रोहित कुमार को गिरफ्तार कर लिया. कुल 13 अपराधी गिरफ्तार किए गए हैं. इनके पास से 10 पिस्टल, 13 गोली, 11 मोबाइल, लूट की 4 बाइक और वारदात के लिए इस्तेमाल की जाने वाली 3 बाइक को बरामद किया गया है.

कई थानों में दर्ज है दर्जनों मामले

पटना पुलिस का कहना है कि दानापुर और इसके आसपास के एरिया में ये गैंग काफी समय से एक्टिव है, लेकिन अब ये अपना दायरा बढ़ाता जा रहा है. बिहटा से लेकर इसका दायरा फतुहा तक बढ़ गया है. हत्या और लूट की वारदातों को अंजाम देने में ये माहिर हैं. गैंग में वैशाली के लालगंज के रहने वाले अपराधी भी शामिल हैं. इस गैंग के खिलाफ करीब डेढ़ दर्जन से भी अधिक एफआईआर अलग-अलग थानों में दर्ज हैं.

गैंग कर चुका है बड़ा अपराध

-गैंग ने 2010 में दानापुर के आनंद बाजार में एसडीएम के ड्राइवर की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

-हाल में ही रूपसपुर एक अपार्टमेंट के बेसमेंट में घुसकर इन्हीं अपराधियों ने सुख्खू नाम के युवक की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

-मखना गैंग के जिस विक्की को पुलिस कस्टडी से छुड़ाने की तैयारी थी, उससे चढ्डा की दोस्ती है.