- लोनी कटरा में नहर किनारे झाडि़यों में फंसा मिला शव

-सुल्तानपुर हाईवे पर शव रखकर किया प्रदर्शन, छह घंटे लगा जाम

- कॉल डिटेल में गांव की एक युवती से हुई थी अंतिम बार बात

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : गोसाईगंज के मलौली गांव से लापता युवक की नृशंस हत्या कर दी गई. हत्यारों ने उसे बुरी तरह पीटने के बाद उसकी आंख फोड़ दी. साथ ही जुबान और प्राइवेट पार्ट काट दिया. इसके बाद मुंह में कपड़ा ठूस कर शव को नहर में फेंक दिया. गुरुवार देररात उसका शव लोनी कटरा में इंदिरा नहर की झाडि़यों में फंसा मिला. परिजनों ने दो लोगों पर हत्या का आरोप लगाते हुए पुलिस को तहरीर दी. पुलिस द्वारा रिपोर्ट दर्ज करने में आनाकानी करने पर ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा. उन्होंने शुक्रवार दोपहर सुलतानपुर हाईवे पर शव रखकर जाम लगाया दिया. इससे 6 घंटे तक ट्रैफिक बाधित रहा.

6 जुलाई से था लापता
मलौली गांव निवासी किसान गुरुप्रसाद का बेटा अंकित वर्मा (20) एक निजी टेलीकॉम कंपनी के सिम बेचने का काम करता था. 6 जुलाई की शाम को अंकित के पास किसी का फोन आया. जिसके बाद वह घर से यह कहकर निकला कि दोस्त की बाइक पंचर हो गई है, उसे लेने जा रहा हूं. इसके बाद से वह वापस नहीं लौटा. परिजनों ने उससे संपर्क किया, लेकिन उसका मोबाइल स्विच ऑफ था.

मोबाइल से डिलीट की कॉल हिस्ट्री
अंकित के बड़े भाई प्रमोद कुमार ने बताया कि 7 जुलाई को अंकित की बाइक चिनहट में ड्रीम वैली के पास नहर किनारे लावारिस हालत में मिली थी. बाइक के पास ही उसकी चप्पलें, बैग और मोबाइल फोन पड़ा था. इस पर चिनहट पुलिस ने गोसाईगंज पुलिस को सूचना दी. जिसके बाद पुलिस ने उसकी बाइक व सामान अपने कब्जे में ले लिया था. इसके बाद गोसाईंगंज पुलिस ने अंकित की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज की. परिजनों के मुताबिक अंकित के मोबाइल की कॉल हिस्ट्री डिलीट की गई थी. इस पर उन्होंने अनहोनी की आशंका जताते हुए जांच की मांग की थी, लेकिन पुलिस ने इसे गंभीरता से नहीं लिया.

जुबान और प्राइवेट पार्ट काटा
गुरुवार देररात बाराबंकी के लोनी कटरा के खैरा कनकू गांव में नहर किनारे झाडि़यों में एक युवक का शव फंसा मिला. इसकी सूचना पर लोनी कटरा थाने की पुलिस मौके पर पहुंची तो मृतक की शिनाख्त मलौली गांव निवासी गुमशुदा अंकित के रूप में हुई. उन्होंने इसकी जानकारी गोसाईंगंज पुलिस को दी. बड़े भाई प्रमोद ने बताया कि अंकित की एक आंख गायब थी और शरीर पर कई जगह चोट के निशान थे. उसके मुंह में कपड़ा ठूसा हुआ था जिसे हटाकर देखा तो उसकी जुबान कटी हुई थी. पोस्टमार्टम में पता चला कि मृतक का प्राइवेट पार्ट भी काटा गया था.

पुलिस के रवैये पर फूटा गुस्सा
शव मिलने के बाद उसके भाई अमित ने भटानी का पुरवा गांव निवासी लक्ष्मी यादव उसके भाई चंद्रकांत व अन्य साथियों पर हत्या का आरोप लगाते हुए थाने में तहरीर दी. ग्रामीणों का आरोप है कि एसओ बलवंत शाही अंकित की मौत को आत्महत्या बताते हुए केस दर्ज करने में आनाकानी करने लगे. इससे ग्रामीण उग्र हो गए और दोपहर एक बजे लखनऊ सुल्तानपुर हाईवे पर शव रखकर जाम लगा दिया

छह घंटे तक लगा रहा जाम
प्रदर्शन की सूचना पर एएसपी ग्रामीण डा. गौरव ग्रोवर और एसडीएम मोहनलालगंज संतोष सिंह मौके पर पहुंचे. आक्रोशित ग्रामीणों ने एसओ बलवंत शाही और चौकी इंचार्ज को सस्पेंड करने और पीडि़त परिवार को 15 लाख रुपये मुआवजा देने की मांग की. इस पर अधिकारियों ने 12 घंटे के अंदर कार्रवाई का आश्वासन दिया जिसके बाद प्रदर्शन समाप्त हुआ. इस दौरान करीब छह घंटे तक सुल्तानपुर हाईवे पर ट्रैफिक ठप रहा.