आगरा. मोहब्बत की निशानी के दीदार में पैसे की मोटी दीवार खड़ी की जा रही है. नए सत्र 1 अप्रैल 2018 से देसी के साथ विदेशी पर्यटकों को टिकट के नाम पर मोटी रकम चुकानी पड़ेगी. खासबात यह है कि देसी पर्यटकों अधिक भार पड़ेगा. उनकी टिकट से छह गुना अधिक जेब काटी जाएगी. फिर भी पर्यटकों में कमी की उम्मीद नहीं है.

भीड़ रोकने की कवायद

संगमरमरी ताजमहल की सुंदरता विदेशों तक फैली हुई है. इसे सालोंसाल तक संरक्षित और सहेजने के लिए भीड़ को रोकने की कवायद की जा रही है. पर्यटन से जुड़े जानकारों का मानना है कि देसी पर्यटक मुख्य गुंबद कब्र पर कम जाते हैं. वे ताजमहल के चारों ओर घूमकर ही संगमरमर की खूबसूरती को निहारते हैं. ये मानकर देसी पर्यटकों के लिए दो टिकट जारी करने का फार्मूला अपनाया है. एक 50 रुपये का इंट्री टिकट, जिसमें ताजमहल की खूबसूरती को निहारने के साथ गुंबद के चारों ओर संगमरमर की दीवारों को छूकर आनंद उठा सकते हैं. अगर पर्यटक गुंबद के भीतर शहजहां और मुमताज की कब्र देखने की चाहत रखता है, तो उसे 200 रुपये अदा करने होंगे. इस तरह से कुल 250 रुपये में संगमरमर ताज की खूबसूरती और कब्र के दीदार हो सकेंगे. विदेशी पर्यटकों पर नई टिकट दर 1250 रुपये होगी. इसका गटन नोटिफिकेशन भी जल्दी ही कर लिया जाएगा और 1 अप्रैल से नई दर लागू हो जाएंगी. इस मामले को लेकर कैबिनेट पर्यटन मंत्री महेश शर्मा ने दिल्ली में मंगलवार को प्रेसवार्ता करके जानकारी दी है.

40 रुपये का है टिकट

अभी देसी पर्यटकों को ताज और कब्र के दीदार मात्र 40 रुपये का टिकट लेना होता है. एक ही टिकट में दोनों को देखा जा सकता है. इसकी समय-सीमा भी तय नहीं है, जबकि नए सत्र से दो टिकटिंग सिस्टम लागू होगी. ताज महल के इंट्री के लिए 50 रुपये का टिकट और कब्र को देखने के लिए दूसरा 200 रुपये का टिकट. इसकी समय-सीमा 3 घंटे होगी. ये टिकट तय समय के बाद आटोमैटिक अवैध हो जाएगा.

विदेशी पर्यटकों के लिए 1 हजार

विदेशी पर्यटक ताजमहल को देखने के लिए 1 हजार रुपये देते हैं. वे 1 अप्रैल से 1250 रुपये देंगे. उनको विशेष सुविधा दी जाएगी. एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन से लेकर ताजमहल तक नए टॉयलेट बनेंगे. उनका विशेष कारीडोर होगा. पर्यटकों में छवि अच्छी बने. इसके लिए बेहतर व्यवस्था बनाई जाएगी.

इमारतों की विशेषता का चलेगा वीडियो

पर्यटकों को एतिहासिक इमारत में प्रवेश से पहले उससे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी देने की भी योजना बनाई गई है. पर्यटन विभाग एतिहासिक इमारतों की विशेषता का एक वीडियो तैयार कर रहा है. ये 4 से 6 मिनट का होगा. इसे पर्यटन स्थल के इंट्री में ही दिखाया जाएगा. इससे पर्यटकों को एतिहासिक इमारत से जुड़ी जानकारी मिल सकेगी.


लपका पर होगी सख्ती

बताया गया है कि एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, होटलों से लेकर ताजमहल तक लपका भरे पड़े हैं. इससे निपटने के लिए सख्त नियम बनाए जा रहे हैं. महिलाओं को देखते हुए खास व्यवस्था बनाई जाएगी.

नाइट लाइफ का विकास

रात में भी ताज को निहारने के लिए तैयारी की गई है. इसके लिए यमुना किनारे 20 हेक्टेअर में ग्रीन जोन बनाया जाएगा. ये पूरी तरह से नाइट लाइफ कांस्पेट पर तैयार होगा.