RANCHI: राज्य में च्संयुक्त विपक्षच् की ओर से पांच जुलाई को बुलाए गए बंद के मद्देनजर सुरक्षा के चाक चौबंद बंदोबस्त किए गए हैं. चौबीस घंटे के इस बंद में आम लोगों की सहूलियत के लिए राज्यभर में 5000 से अधिक जिला पुलिस के जवानों के अलावे तीन हजार होमगार्ड के जवान राज्यभर में तैनात किए गए हैं.

होम सेक्रेटरी एसकेजी रहाटे और डीजीपी डीके पाण्डेय ने संयुक्त रूप से बुधवार को बताया की इसके अलावे दंडाधिकारियों की नियुक्ति की गई है. साथ ही रैफ की दो कंपनियां, रैप के छह दस्ते और अलग अलग प्वाइंट पर दंडाधिकारी भी तैनात किए गए हैं. होम सेक्रेटरी ने बताया कि बंद के दौरान किसी भी तरह की हिंसा नहीं बर्दाश्त की जाएगी. इस दौरान किसी ने भी जबरदस्ती दुकान बंद कराने या फिर आम लोगों के मूवमेंट को प्रभावित करने की कोशिश की तो उनके खिलाफ कड़ा एक्शन लिया जाएगा.

पारंपरिक हथियार के इस्तेमाल पर भी रहेगी रोक

होम सेक्रेटरी ने बताया कि बंद के दौरान किसी भी पारंपरिक हथियार या आग्नेयास्त्र के प्रदर्शन पर भी रोक रहेगी1 इसका प्रयोग भी गैर कानूनी माना जाएगा. उन्होंने कहा कि बंद के दौरान नेशनल हाईवे और स्टेट हाईवे पर भी सुरक्षा की पूरी व्यवस्था रहेगी.

तोड़फोड़ करने वालों से वसूली जाएगी कीमत

होम सेक्रेटरी ने कहा कि राज्यभर में सेंसिटिव प्वाइंट भी चिन्हित किए गए हैं, जहां पूरी नजर रखी जाएगी. उन्होंने कहा कि निजी या फिर सरकारी संपत्ति को निशाना बनाने वाले लोगों के खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ डैमेज टू पब्लिक प्रॉपर्टी एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी. ऐसे लोगों से बाकायदा क्षति का मुआवजा वसूला जाएगा. इसके अलावे मजमा का नेतृत्व करने वाले लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी.

बंद समर्थकों को थमाया गया नोटिस

बंद का समर्थन करनेवाले और बंद कराने वाले लोगों को रांची पुलिस ने नोटिस थमा दिया है. नोटिस में कहा गया है कि यदि वे विध्वंसक कार्रवाई करने की कोशिश करेंगें तो उनके खिलाफ धारा 107 और 113 के तहत कार्रवाई की जाएगी. नोटिस तामिला टाइगर जवान के द्वारा किया जा रहा है.