हेल्प लाइन पर नकली टिकट की भी दर्ज होगी शिकायत

अधिकतर बसों में हेल्पलाइन या शिकायत नंबर हुए गायब

MEERUT । रोडवेज बस में सफर के दौरान आए दिन नकली टिकट की बढ़ती शिकायतों का निस्तारण भी अब परिवहन विभाग अपने टोल फ्री नंबर से करेगा, लेकिन रोडवेज का यह टोल फ्री नंबर पहले से ही यात्रियों के लिए दिखावा साबित हो रहा है। ऐसे में यात्रियों के लिए नकली टिकट की शिकायत करना यात्रियों के लिए आसान नही होगा। हालत यह है कि बसों में लिखे हेल्पलाइन नंबर को या तो गायब कर दिया गया है या नंबर अधिकतर समय होल्ड पर रहता है। ऐसे में यह नई कवायद कितना परवान चढ़ेगी यह कहना मुश्किल है।

नंबर पुराना सुविधा नई

टोल फ्री नंबर 18001802877 को परिवहन विभाग ने यात्रियों की चालक परिचालक संबंधित शिकायतों के निस्तारण के लिए शुरु किया था अब इस नंबर पर ही यात्री नकली टिकट या टिकट ना मिलने जैसी शिकायतों को भी दर्ज करा सकेंगे। यात्री की इस शिकायत पर रोडवेज संबंधित परिचालक के खिलाफ तुरंत एक्शन लेगा। लेकिन यह टोल फ्री नंबर अधिकतर बसों में लिखा ही नही है या जिनमें है उसमें से मिटा दिया गया है।

दिखावा बनी सुविधा

दरअसल रोडवेज ने बीच सफर में यात्रियों को होने वाली परेशानी को दूर करने या कहें यात्रियों की सुविधा के लिए अपनी सभी निगम और अनुबंधित बसों में टोल फ्री नंबर और शिकायत नंबर को डिस्प्ले किया है। यह नंबर परिचालक, या चालक से संबंधित किसी भी प्रकार की शिकायत के साथ यात्रियों के सुझाव के लिए अंकित किया जाता है। लेकिन अधिकतर बसों में से इन नंबर को ही गायब कर दिया गया है। ताकि यात्री इस नंबर का उपयोग ही ना कर सकें। और जिन बसों में यह नंबर लिखा भी उनकी एक या दो डिजिट गायब कर दी गई है।

रेस्पांसलेस टोल फ्री नंबर

इससे इतर टोल फ्री नंबर 18001802877 और शिकायत नंबर 149 का हाल यह है कि अगर नंबर कोई यात्री डायल करे तो नंबर पर भी कोई रेस्पोंस नही मिलता। टोल फ्री नंबर पर घंटो यात्री वेटिंग में रहते हैं लेकिन नंबर नही लगता है। ऐसे में रोडवेज की यह सेवा दिखावा साबित हो रही है।

यह सुविधा मुख्यालय स्तर पर दी जा रही है यात्री को यदि इन नंबर पर रिस्पांस नही मिल रहा है या किसी बस में चालक परिचालक अभद्रता करता है तो उसकी शिकायत डिपो प्रभारी से कर सकते हैं।

- नीरज सक्सेना, आरएम