-बारादरी पुलिस ने तिलहर के दो ज्वैलर्स से की है बरामदगी,

-एक ज्वैलर वांटेड, लुटेरे मनोज वाल्मीकि को लिया था रिमांड पर

BAREILLY: टॉप कैरेट ज्वैलर्स लूटकांड के करीब दो माह बाद पुलिस ने ज्वैलरी की बड़ी रिकवरी की है. पुलिस ने शाहजहांपुर के तिलहर के दो ज्वैलर्स से करीब 16 लाख की कीमत की ज्वैलरी बरामद की है. पुलिस ने दोनों ज्वैलर्स को गिरफ्तार किया है. वहीं एक ज्वैलर्स फरार है, जिसे पुलिस ने वांटेड किया है. पुलिस ने लुटेरे मनोज वाल्मीकि के रिमांड पर लेने के बाद ज्वैलर्स को पकड़ा था. डीजीपी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 21 परसेंट की रिकवरी होने पर नाराजगी जताई थी, जिसके बाद पुलिस एक्टिव हुई थी. पुलिस इस केस का प्रेस कांफ्रेंस में खुलासा भी कर सकती है. लूट के बाद से ज्वैलरी शॉप बंद है.

1 करोड़ से अधिक की लूट

बता दें कि 4 जून को पीलीभीत बाईपास पर टॉप कैरेट ज्वैलरी शॉप से दिनदहाड़े करीब 1 करोड़ की लूट की वारदात को अंजाम दिया गया था. हालांकि पुलिस 40 लाख की लूट बता रही थी और ज्वैलर्स ने लूट की ज्वैलरी का खुलासा नहीं किया था. लूट के वक्त गार्ड बाहर बैठा रहा था. सीसीटीवी फुटेज के आधार पर तीन लुटेरे नजर आए थे. जिसके बाद पुलिस फुटेज के आधार पर बीसलपुर तक गई थी, लेकिन कोई सुराग नहीं लगा था. 23 जून को एसटीएफ ने मामले का खुलासा किया था. पुलिस ने पंजाब के मूल निवासी और रिछा निवासी निर्मल सिंह और सुभाषनगर के शंकर शर्मा को गिरफ्तार किया था. दोनों ने पंजाब के सतनाम सिंह, तिलहर शाहजहांपुर के मनोज वाल्मीकि और राजेश उर्फ झंडू का भी नाम लिया था.

राजेश के घर हुआ था बंटवारा

दोनों ने पूछताछ में बताया था कि निर्मल और सतनाम ने लूट की प्लानिंग की थी. शंकर सिंह ने रेकी की थी लेकिन लूट के दौरान सिर्फ निर्मल, राजेश, मनोज और सतनाम ही दो बाइक पर आए थे. उसके बाद बाइक से ही सभी तिलहर गए थे. यहां राजेश के घर में ज्वैलरी का बंटवारा हुआ था. निर्मल ने बताया था कि लूट का सामान मनोज ने बेचा था. एसटीएफ ने खुलासा तो कर दिया था, लेकिन कोई भी माल की रिकवरी नहीं हुई थी. एसटीएफ ने निर्मल के अकाउंट में 6 लाख 70 हजार रुपए का रिकार्ड दिखाया था. यही नहीं शोरूम से लूटा गया डीवीआर भी बरामद नहीं हुआ था. एसटीएफ ने बताया था कि डीवीआर को कुचलकर रास्ते में नहर किनारे फेंक दिया गया था. एसटीएफ इसकी रिकवरी के लिए भी गई थी. एसटीएफ ने पश्चिम बंगाल में सतनाम की गिरफ्तारी के लिए और राजेश और मनोज की गिरफ्तारी के लिए उसके घर में दबिश दी थी, लेकिन सभी परिवार के साथ फरार हो गए थे. रिकवरी न होने पर एसटीएफ के खुलासे पर सवाल खड़े हुए थे.

इन ज्वैलर्स को किया गया गिरफ्तार

इस मामले में मनोज वाल्मीकि किसी अन्य मामले में शाहजहांपुर की कोर्ट में पेश होकर जेल चला गया था, जिसके बाद पुलिस ने उसकी रिमांड के लिए अप्लाई किया था. 5 दिन पहले पुलिस को मनोज की रिमांड मिल गई थी. उसने पूछताछ में तिलहर के ज्वैलर अरविंद रस्तोगी, अजहरुद्दीन और जलालुद्दीन का नाम बताया था. जिसके बाद पुलिस ने ज्वैलर्स की धरपकड़ शुरू की थी. पुलिस ने 5 दिन बाद करीब 16 लाख की कीमत की ज्वैलरी बरामद की है. पुलिस सोर्स की मानें तो कुछ ज्वैलरी गली हुई मिली है, तो कुछ ज्वैलरी वही मिली है जो ज्वैलरी शॉप से लूटी गई थी. टॉप कैरेट ज्वैलरी में टीसी का मोनोग्राम लगा हुआ था. पुलिस ने लूट के बाद इसकी भी फोटो सोशल मीडिया पर जारी की थी.

लूटकांड में रिकवरी हुई है. मनोज वाल्मीकि को रिमांड पर लेकर ज्वैलर्स को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया था. पूछताछ की जा रही है.

अभिनंदन सिंह, एसपी सिटी