सेंट पेट्रिक की छात्रा गार्गी शर्मा की मौत के बाद उठाया कदम

एनएचएआई, व एक्सप्रेस-वे अधिकारियों से भी की बात

आगरा. शहर की बेटी सेंट पेट्रिक की छात्रा गार्गी शर्मा को नगर निगम के ट्रक ने चपेट में लिया जिसके बाद से शहर भारी वाहनों के विरोध में उतर आया. एसपी ट्रैफिक ने इस तरह की घटनाओं की रोकथाम के लिए नगर निगम से बात की है. जिले में होने वाली दुर्घटनाओं और मौतों को रोकने के लिए एनएचएआई व अन्य विभागों से बात की गई है. जल्द ही यहां पर ब्लैक स्पोट चिन्हित किए जायेंगे.

गार्गी की मौत के बाद उठाया कदम

16 अगस्त को कारोबारी आनंद शर्मा की बेटी गार्गी शर्मा को स्कूल से लौटने के दौरान नगर निगम के ट्रक ने चपेट में ले लिया. मथुरा स्थित नियति हॉस्पिटल में उसका इलाज चल रहा था. चिकित्सकों की कोशिशों के बाद भी उसे बचाया नहीं जा सका. गार्गी की मौत ने शहर को हिला कर रख दिया. परिजन बच्चों को अकेला स्कूल भेजने से डरने लगे.

नगर निगम से की बात

इस मामले को गंभीरता से लेते हुए एसपी ट्रैफिक प्रशांत कुमार ने नगर निगम से बात की. बातचीत में तय किया गया कि नगर निगम का कोई भी कूड़ा उठाने वाला भारी वाहन स्कूल की छुट्टी के दौरान और स्कूल लगने से एक घंटे पहले तक स्कूली मार्गो पर नहीं चलेंगे. चूंकि उस दौरान बच्चों की भीड़ वहां पर रहती है. ऐसे में कोई भी हादसा हो सकता है.

हादसे के बाद भी चल रहे वाहन

हादसे के बाद जब भारी वाहनों के न निकाले जाने के आदेश हुए तो दैनिक जागरण आईनेक्स्ट की टीम मौके पर पहुंची. वहां पर हादसे के बाद भी भारी वाहन निकल रहे थे. उसमें प्राइवेट बसें भी शामिल थी. हालांकि पुलिस कर्मी खड़े थे फिर भी चालक अपनी मनमानी कर रहे थे. दैनिक जागरण आईनेक्स्ट ने इस घटना को प्रमुखता से प्रकाशित किया था.

जिले की दुर्घटनाओं पर भी नजर

गार्गी की मौत के बाद एसपी ट्रैफिक की नजर जिले की अन्य दुर्घटनाओं पर गई. यहां पर पूर्व में पुलिस ने ब्लैक स्पॉट चिन्हित किए थे. लेकिन इसके बाद कई स्थानों पर फ्लाई ओवर आदि बन गए. जिसके बाद दुर्घटना के लिए कई नए स्पॉट बन गए हैं. हाईवे, लखनऊ एक्सप्रेस-वे, यमुना एक्सप्रेस-वे आदि स्थानों पर कई बार बड़ी दुर्घटनाएं हुई हैं.

लगातार चल रहा है काम

बीते कुछ वर्षो में दुर्घटनाओं की संख्या बढ़ी है. इनमें कई बाद ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटने जैसी घटनाएं, ऑटो पलटने, कार पलटने आदि घटनाएं शामिल हैं. इसमें कई बार रोड इंजिनियरिंग की कमी पाई जाती है तो कहीं पर मोड़ ऐसे होते हैं कि सामने से आता वाहन नहीं दिखाई देता. ट्रैफिक पुलिस इन सभी प्वाइंटों पर बारी-बारी काम कर रही है.

विभागों के साथ होगा निरीक्षण

एसपी ट्रैफिक के मुताबिक दुर्घटनाओं को रोकने के लिए हाईवे, लखनऊ एक्सप्रेस-वे, यमुना एक्सप्रेस-वे व अन्य मार्गो के ब्लैक स्पॉट चिन्हित किए जायेंगे. वैसे तो पहले से करीब 23 प्वाइंट चिन्हित हैं पर इन मार्गो पर पहले से अब तक कई निर्माण हो चुके हैं अब यहां की सूरत पहले से बदल गई है. इन विभागों के साथ मिल कर यहां पर निरीक्षण किया जाएगा.