- सीबीगंज अटरिया के पास अमरनाथ एक्सप्रेस के इंजन में फंसा स्लीपर

- गर्रा नदी के पास जनता एक्सप्रेस में लूट पीडि़त यात्रियों ने दी तहरीर

BAREILLY:

ट्रेनों में यात्रियों की सुरक्षा को लेकर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है. जब जम्मू से गोरखपुर जा रही अमरनाथ एक्सपे्रस सीबीगंज में पलटते-पलटते बची. तो लुटेरों ने 48 घंटे के भीतर ट्रेन में दूसरी वारदात को अंजाम देते हुए वाराणसी से देहरादून जा रही जनता एक्सपे्रस में महिला यात्रियों से लूटपाट की. पटरी मरम्मत का काम कर रहे कर्मचारियों की लापरवाही के चलते अमरनाथ एक्सपे्रस में सैकड़ों यात्रियों की जान पर बन आई थी, तो लूट का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. लुटेरे शाहजहांपुर से बरेली के बीच ट्रेनों को बार-बार निशाना बना रहे हैं, लेकिन पुलिस वारदातों पर अंकुश लगा पाने में विफल है. फिलहाल, दोनों ही मामलों में डीआरएम ने जांच के आदेश दिए हैं. संडे को पलटने से बची अमरनाथ एक्सप्रेस मामले में कर्मचारियों पर कार्रवाई होनी तय मानी जा रही है.

2500 यात्रियों की जान पर बन आई थी

संडे को दोपहर करीब 12:05 बजे डाउन लाइन पर मुरादाबाद की ओर से जम्मूतवी-गोरखपुर अमरनाथ एक्सप्रेस बरेली की ओर आ रही थी. सीबीगंज में अटरिया गांव के पास रेल ट्रैक पर मरम्मत कार्य चल रहा था. कर्मचारियों ने एक स्लीपर ट्रैक पर ही छोड़ दिया. स्टेशन मास्टर ने बिना किसी जानकारी के ट्रेन को सिग्नल दे दिया. ट्रेन की रफ्तार करीब 60-70 के आसपास थी. इंजन में स्लीपर फंस गया. जिससे ट्रेन में जोर का झटका लगा, जिससे यात्रियों में चीखपुकार मच गई. लोको पायलट की निगाह पहले ही स्लीपर पर पड़ गई थी और ब्रेक लगा दिया था, जिसके चलते यात्रियों की जान बच गई. 2500 यात्री सवार थे. हादसे के वक्त ट्रेन में करीब ट्रेन फुल स्पीड से टकराई होती तो पलटना तय था.

डीआरएम ने दिए जांच के आदेश

हादसे की सूचना तुरंत कंट्रोल रूम को दी गई. जिसके बाद रेलवे में खलबली मच गई. बरेली और रामपुर सेक्शन से कई रेल मौके पर पहुंचे. ट्रेन को पीछे हटाकर स्लीपर को बाहर निकाला गया. करीब एक घंटे तक अमरनाथ एक्सप्रेस वहीं खड़ी रही. पीछे से आ रही सियालदह एक्सप्रेस को भी रोका गया. डीआरएम ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं. आरपीएफ, लोको इंस्पेक्टर, स्टेशन मास्टर को ज्वाइंट रिपोर्ट बनाने को कहा गया. अधिकारियों का कहना है कि स्टेशन मास्टर और रेल पथ निरीक्षक और गैंगमैनों के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है.

जनता एक्सप्रेस में लूट

लखनऊ से बरेली की ओर जा रही जनता एक्सप्रेस ट्रेन में शाहजहांपुर में सैटरडे रात लूटपाट हो गई. बरेली की दो महिलाओं के पर्स और चेन लूट कर बदमाश चेन पुलिंग कर गर्रा नदी और रेलवे फाटक के बीच ट्रेन से उतर कर भाग गए. पिछले 48 घंटे के अंदर ट्रेन के अंदर लूटपाट की यह दूसरी वारदात है. इससे पहले 13 जुलाई की रात एक बजे के बाद बदमाशों ने लखनऊ से चंड़ीगढ़ जा रही ट्रेन को गर्रा नदी और रेलवे फाटक के बीच चेन पुलिंग कर रोका था और झाडि़यों से निकले बदमाशों ने तीन स्पीलर कोचों में खिड़कियों के पास बैठी महिलाओं के जेवर और पर्स छीन लिए थे.

एस-4 कोच में हुई लूट

लखनऊ से चलकर बरेली की ओर जाने वाली जनता एक्सप्रेस ट्रेन के शाहजहांपुर आने का वक्त शाम सात बजे हैं. सैटरडे को यह ट्रेन दो घंटा विलंब से चल रही थी. शाहजहांपुर में स्टापेज टाइम खत्म होने के बाद इस ट्रेन ने बरेली की ओर जाने के लिए रवानगी ली. माना जा रहा है कि शाहजहांपुर रेलवे स्टेशन से ही बदमाश इस ट्रेन में सवार हो गए. जैसे ही ट्रेन आगे बढ़ी बदमाशों ने सुरक्षित कोच की तलाश की. इस दौरान ट्रेन रफ्तार पकड़ चुकी थी. इसलिए बदमाशों ने एस-4 कोच में दो महिलाओं को निशाने पर लिया.

जांच में जुटी जीआरपी

पीडि़त महिलाओं ने शोर मचाना शुरू कर दिया. कंट्रोल को सूचना दी गई. इसके बाद ट्रेन जब बरेली पहुंची तब लूट का शिकार हुईं महिलाओं ने जीआरपी जाकर तहरीर दी. वहां से तत्काल जीआरपी के उच्चाधिकारियों को खबर दी गई. शाहजहांपुर जीआरपी रात में ही सक्रिय हो गई. बदमाशों का कोई सुराग नहीं लग सका था. इधर, जीआरपी की मदद के लिए शाहजहांपुर सिविल पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम को लगाया गया है. माना जा रहा है कि बदमाश लोकल के ही हैं.

महिला यात्रियों ने लूट की तहरीर थाने में दी है. बदमाशों को पकड़ने के लिए दबिश डाली जा रही है. जल्द ही आरोपी गिरफ्त में होंगे.

विजय कुमार, इंस्पेक्टर, जीआरपी बरेली जंक्शन