यात्रियों को वक्त के साथ जाया करना पड़ेगा किराए पर अधिक पैसा

अब बस का लेना पड़ेगा सहारा, बसों में भी बढ़ जाएगी भीड़

PRATAPGARH ( 8 Dec, JNN): संगम नगरी की राह अब आसान नहीं होगी. प्रयाग के लिए चलने वाली चार में से दो ट्रेन दो महीने के लिए निरस्त कर दी गई है. शाम को संगम जाने के लिए अब कोई ट्रेन नहीं है. यानी अब यात्रियों की मुश्किलें फिलहाल दो महीने के लिए बढ़ गई है.

ट्रेन से ज्यादातर लोग जाते हैं प्रयाग

बेल्हा से संगम नगरी की दूरी लगभग 65 किमी है. संगम जाने के लिए अधिकांश लोग ट्रेन का सफर ही माकूल समझते हैं. क्योंकि रोडवेज से प्रयाग के लिए चु¨नदा बसें ही हैं. वैसे भी ट्रेन और रोडवेज बस के किराये में लगभग चार गुना का अंतर है. पैसेंजर ट्रेन से प्रयाग के लिए जहां 15 रुपये किराया लगता है, वहीं रोडवेज बस का किराया 56 रुपये है.

चार में दो ट्रेनें हुई निरस्त

प्रतापगढ़ से होकर प्रयाग के लिए चार पैसेंजर ट्रेन चलती थी. इसमें से भोर में सवा तीन बजे बरेली प्रयाग पैसेंजर, सुबह सवा नौ बजे फैजाबाद प्रयाग पैसेंजर, 9.55 बजे पीआरएल संगम के लिए जाती थी. सरयू एक्सप्रेस सुबह 7.21 बजे प्रतापगढ़ से होकर गुजरती है, लेकिन वे प्रयाग जाने के बजाय इलाहाबाद रेलवे स्टेशन जाती है. शाम 4.55 को सिर्फ फैजाबाद प्रयाग पैसेंजर इधर से जाती है.

बस और ट्रेन के भाड़े में है अंतर

किराया कम होने के साथ ही इन दिनों लोग प्रयाग के लिए ट्रेन का सफर अधिक पसंद कर रहे हैं. क्योंकि प्रतापगढ़ से इलाहाबाद तक हाईवे इस समय काफी जर्जर हो गया है. ऐसे में बसों से सफर करना इस समय कष्टदायक है. यात्रियों को मिल रही सहूलियत के बीच अचानक पहले पीआरएल ट्रेन को 6 दिसंबर के लिए निरस्त किया गया. फिर 6 दिसंबर को पीआरएल के साथ ही शाम को जाने वाली फैजाबाद प्रयाग पैसेंजर को भी निरस्त कर दिया गया.

पांच फरवरी तक होगी दिक्कत

दो ट्रेनों को पांच फरवरी तक के लिए निरस्त कर दिया गया है. ऐसे में सुबह जाने वाली फैजाबाद प्रयाग पैसेंजर ट्रेन पर भीड़ बढ़ जाएगी. लेकिन शाम को कोई ट्रेन न होने के कारण सड़क मार्ग से ही सफर करना लोगों की मजबूरी है.