NEW DELHI: किसी ने सच कहा है कि इंसान अपनी मेहनत के दम पर सबकुछ हासिल कर सकता है। जोइता मंडल पर यह बात एकदम सटीक बैठती है। शनिवार को जब 'ड्यूटी पर न्यायाधीश’ लिखे लाल प्लेट लगी सफेद कार से जोइता इस्लामपुर कोर्ट परिसर में पहुंची तो, ये सिर्फ ट्रांसजेंडर्स के लिए सेलिब्रेशन का मौका नहीं होता था। बल्कि, ये पूरे देश के लिए खुशी का अवसर था।

आसान नहीं रहा सफर
एक ट्रांसजेन्डर के रूप में जोइता मंडल का राष्ट्रीय लोक अदालत तक का सफर इतना आसान नहीं था। जीने के लिए भीख मांगने से लेकर सोशल वर्कर का काम और फिर राष्ट्रीय लोक अदलात की बेंच के लिए चयनित होना, ये सब जोइता ने इसी जिंदगी में देखा। ट्रांस वेलफेयर इक्विटी के संस्थापक अभीना ने कहा, यह पहला मौका है जब किसी इस समुदाय के व्यक्ति को यह अवसर मिला है। 8 जुलाई को लोक अदालत के लिए इस्लामपुर के सब-डिविजनल लीगल सर्विस कमेटी की तरफ से जोइता को बेंच के लिए नियुक्त किया गया था।

कभी भीख मांगकर गुजारी जिंदगी,आज judge’ बना ट्रांसजेन्डर

एक घटना ने बदल दी जिंदगी
जोइता का दफ्तर उस बस स्टैंड से सिर्फ 10 मिनट की दूरी पर था जहां कभी उन्हें सोना पड़ा था। क्योंकि उनके ट्रांसजेंडर होने की वजह से एक होटल ने उन्हें रूम देने से मना कर दिया था। इस घटना के बाद ही जोइता ने अपने जैसे और भी दूसरे लोगों के लिए लडऩे का इरादा बनाया था।

साउथ इंडियन मसाला सर्च करने पर Google पर दिखती हैं सिर्फ लड़कियां, अब भारतीय मांग रहे इसका जवाब

पब्लिक में उम्मीद की किरण
जोइता के दोस्त जो उन्हें दिजनापुर नोतुन आलो सोसाइटी के फाउंडिंग चेयरमैन के रूप में जानते हैं, उन्होंने जोइता की फेसबुक टाइमलाइन को बधाइयों के संदेश भर दिया। राष्ट्रीय लोक अदालत बेंच में एक एडिशनल सेशन जज और एक वकील के साथ जोइता का वहां बैठना लोगों में उम्मीद की किरण जगा रहा है।

16 साल का दूल्हा, 70 साल की दुल्हन


लिंगभेद के खिलाफ समाज को संदेश
ø जोइता ने कहा है कि मुझे इस बात का गर्व है कि मेरा सेलेक्शन लिंग भेद के खिलाफ  समाज को एक सख्त संदेश देगा।

ø 8 जुलाई को लोक अदालत के लिए इस्लामपुर के सब-डिविजनल लीगल सर्विस कमिटी की तरफ  से जोइता को नियुक्ति पत्र भेजा गया।

ø अप्वाइंटमेंट लेटर में उन्हें सोशल वर्कर बताया गया है। इसके अलावा उन्हें 'लन्र्ड जजÓ की कैटेगरी में रखा गया है।

ø नियमों के मुताबिक, इस फैसले को सब-डिविजनल कमेटी के चेयरमैन द्वारा स्टेट लीगल सर्विस अथॉरिटी, कोलकाता को भी भेजा गया।

ø ट्रांसजेंडर समुदाय से संबंधित कई मुद्दों पर जोइता साल 2011 से काम कर रही हैं।

ø जब वो एक आधिकारिक वाहन में सुरक्षा अनुरक्षण के कोर्ट रूम में साथ पहुंची तो सब लोग दंग रह गए।

Interesting News inextlive from Interesting News Desk

Interesting News inextlive from Interesting News Desk